पृष्ठ:सरदार पूर्णसिंह अध्यापक के निबन्ध.djvu/८६

विकिस्रोत से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
यह पृष्ठ अभी शोधित नहीं है।

कन्या-दान देश के इस पारस्परिक अर्पण का दिव्य समय ( Divine time of mutual self-surrender = परस्पर आत्म समर्पण का दैवी काल) कुल दुनिया के ऐसे समय से अधिक हृदयंगम होता है । कन्या की समाधि अभी नहीं खुली । परन्तु ऐसी योग-निद्रा में सोई हुई पत्नो के ऊपर यह आर्य नौजवान न्यौछावर हो चुका । इसके लिए तो पहली बार ही प्रेम की बिजली इस तरह गिरी कि उसको खबर तक भी न हुई कि उसका दिल उसके पहलू में प्रेमाग्नि से कब तड़पा कब उछला, कब कूदा और कब हवन हो गया । अब भाई अपनी बहन को अपने दिल से उसके पति के हवाले कर चुका । पिता और माता ने अपने नयनों से गंगा-जल लेकर अपने अंगों को धोया और अपनी मेहँदी रँगी पुत्री को उसके पति के हवाले कर दिया। ज्योंही उस कन्या का हाथ अपने पति के हाथ पर पड़ा त्योंही उस देवी की समाधि खुली । देवी और देवताओं ने भी पति और पत्नी के सिर पर हाथ रखकर अटल सुहाग का आशीर्वाद दिया। देवलोक में खुशी हुई। मातृलोक का यज्ञ पूरा हुआ । चन्द्रमा और तारागण, ध्रुव और सप्तर्षि इसके गवाह हुए । मानो ब्रह्मा ने स्वयं आकर इस संयोग को जोड़ा । फिर क्यों न पति और पत्नी परस्पर प्रेम में लीन हो ? कुल जगत् टूट फूटकर प्रलयलीन सा हो गया; इस पत्नी के लिए केवल पति ही रह गया । और, इसी तरह, कुल जगत् टूटफूट प्रलय-लीन हो गया। इस पति के लिए केवल पत्नी ही रह गई । क्या रँगीला जोड़ा है जो कुल जगत् को प्रलय-गर्भ में लीन कर अनन्ताकाश में प्रेम की बाँसुरी बजाते हुए बिचर रहा है। प्यारे ! हमारे यहाँ तो यही राधा-कृष्ण घर घर बिचरते हैं :- “The reduction of the whole universe to a single being and the expansion of that single ८६