पृष्ठ:साहित्य का उद्देश्य.djvu/१२५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
सिनेमा और जीवन
 


सिनेमा का प्रचार दिन-दिन बढ रहा है । केवल इंग्लैंड मे दो करोड़ दर्शक प्रति सप्ताह सिनेमा देखने जाते है । इसलिए प्रत्येक राष्ट्र का फर्ज हो गया है कि वह सिनेमा की प्रगति पर कड़ी निगाह रखे और इसे केवल धन लुटेरों के ही हाथ मे न छोड़ दे । व्यवसाय का नियम है कि जनता मे जो माल ज्यादा खपे, उसकी तैयारी में लगे। अगर जनता को ताड़ी शराब से रुचि है, तो वह ताडी शराब की दुकानें खोलेगा और खूब धन कमाएगा। उसे इससे प्रयोजन नहीं कि ताड़ी शराब से जनता को कितनी दैहिक, आत्मिक, चारित्रिक, आर्थिक और पारिवारिक हानि पहुँचतो है । उसके जीवन का उद्देश्य तो धन है और धन कमाने का कोई भी साधन वह नहीं छोड़ सकता । यह काम उपदेशको और सन्तों का है कि वे जनता मे संयम और निषेध का प्रचार करें। व्यवसाय तो व्यवसाय है। "बिजनेस इज़ बिजनेस' यह वाक्य सभी की जबान पर रहता है। इसका अर्थ यही है कि कारोबार मे धर्म और अधर्म, उचित और अनुचित का विचार नहीं किया जा सकता । बल्कि उसका विचार करना बेवकूफी है।

इसमे विद्वानो को मतभेद हो सकता है कि आदमी का पूर्व पुरुष बन्दर है या भालू, लेकिन इसमे तो सभी सहमत होगे कि आदमी में दैविकता भी है और पाशविकता भी। अगर आदमी एक वक्त मे किसी की हत्या कर सकता है, तो दूसरे अवसर पर किसी की रक्षा मे अपने प्राणों का होम भी कर सकता है और आदि से साहित्य और काव्य और

१२०