पृष्ठ:सुखशर्वरी.djvu/५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।



श्री:

द्वितीय संस्करण की भूमिका ।

यह उपन्यास सन् १८८८ ई० में लिखा गया और सन् १८८१ ई० में भारतजीवन प्रेस में छपा था । आज ईश्वरानुग्रह से इतने दिनों के बाद यह दूसरी बार छापा जाता है। उपन्यासप्रेमियों ने इसे बहुत पसन्द किया है, इसलिये हम उनके कृतज्ञ हैं।

वृन्दावन }रसिकानुगामी,

११-८-१६ } श्रोकिशोरीलालगोस्वामी