पृष्ठ:स्टालिन.djvu/२८

विकिस्रोत से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
यह पृष्ठ अभी शोधित नहीं है।

सत्ताईस] [ *** भाव जामत होने लगे। वह उनके पास जाकर खड़ा हो गया। उसने सरल और स्पष्ट शब्दों में उनसे कहा कि तुम लोग मेरे प्रति किसी प्रकार का अविश्वास न रक्खो। मेरी हार्दिक इच्छा उस आन्दोलन का ज्ञान प्राप्त करने की है, जिसके कारण कुछ घण्टों पूर्व पुलिस वाले हमारे दो साथियों को गिरफ्तार करके बँचते हुए अपने साथ ले गए हैं। जोन के माता पिता सदा की भान्ति अगले रविवार को भी उसके आगमन की प्रतीक्षा करते रहे। किन्तु इस बार वह उनसे मिलने न गया। बात यह हुई कि उसने अवकाश का वह समय विद्यार्थियों के साथ गुजारा । सब लड़के नोह जोरदोनिया नामक पुराने विद्यार्थी की बैठक में एकत्रित हुए। यह वही नोह जोरदोनिया था जो १९१७ की रूस की प्रथम क्रान्ति के पश्चात् गर्जस्तान की राष्ट्रीय परिषद् (नेशनल गवर्नमेन्ट ) का प्रथम प्रधानमंत्री बना। इस दिन से जोजफ ने वैसी हो प्रयत्नशीलता से-जैसो कि वह अपने धार्मिक शिक्षण में वर्तता था-इस क्रान्तिकारा आन्दो- लन में भाग लेना श्रारम्भ किया। महान् साहस उसके स्वभाव का एक विशिष्ट गुण था । इस दिन से उसके साहस ने एक अन्य क्षेत्र में अपना चमत्कार दिखलाना प्रारम्भ किया। यह वह समय था जब उसने पहली बार उस ब्लाडी मेर एलच अलयानो का नाम सुना, जो अत्यन्त अद्भुत व्यक्ति था। जोजफ के साथियों ने उसे बतलाया कि वह क्रान्तिकारो लेख, जिनमें मूक अग्नि को चिंगारियां छिपा रहती हैं, जिनका प्रकाशन रूस के प्रत्येक भाग में किया जाता है और जिसका एक नमूना उसने उस कागज में देखा था जिसमें उसे फल वाले ने फन नपेट कर दिये थे-सारा क्रान्ति- कारी साहित्य उसी अद्भुत व्यक्ति को कृति था, जिसने अपना