पृष्ठ:हिन्दी भाषा की उत्पत्ति.djvu/४०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
२६
हिन्दी भाषा की उत्पत्ति।

(१) बाहरी शाखा। इसकी तीन उपशाखायें हैं--उत्तर-पश्चिमी, दक्षिणी और पूर्वी।

(२) मध्यवर्ती शाखा।

(३) भीतरी शाखा। इसकी दो उपशाखायें हैं--पश्चिमी और उत्तरी।

अब हम नीचे एक लेखा देते हैं जिससे यह मालूम हो जायगा कि प्रत्येक उपशाखा में कौन-कौन भाषायें हैं, और १९०१ ईसवी की मर्दुमशुमारी के अनुसार, प्रत्येक उपशाखा और भाषा के बोलनेवालों की संख्या कितनी है।

बाहरी शाखा


(क)उत्तर-पश्चिमी उपशाखा
१काश्मीरी
२कोहिस्तानी
३लहँडा
४सिन्धी
(ख)दक्षिणी उपशाखा
५मराठी
(ग)पूर्वी उपशाखा
६उड़िया
७बिहारी
८बँगला
९आसामी




१,००७,९५७
३६
३,३३७,९१७
३,००६,३९५

१८,२३७,८९९

९,६८७,४२९
३४,५७९,८४४
४४,६२४,०४८
१,३५०,८४६


७,३५२,३०५





१८,२३७,८९९

९०,२४२,१६७