पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/३१४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


विकस्पिन-विकार विनित, सिको हाना कई सहमे की गई दो। 'शील, तिलनेयाला पाप-यिकामो ( पुर २ सन्दिाप, जिसके सम्बन्ध मिश्वन हो। ३पिमा काथ्यालद्वार। इसमें पहले कोई गिर पान .. पिश, पाता हुमा । ४ मनियमित, जिसका कोई उसको पुष्टि सामान्य वातसे को जाता है। नियम न हो। विकासरा (सं० लो०) विश्वरराए। रायपुन, पिकमि .लि.) पिशप-मि । विनपयुक्त, लाल गदहपूरना। निमायिनिए । पिंकवरूप ( Ei० पु. ) पिमेद। यिन्य (म० नि०) पिता-यम् । मिलानोप, यिाला पिकाकुद ( स० लि.) काकुवाय, जिसके फाड़ ग हो। ' के यो । (पा ११४८) । विस्तार (रा. लि.) विगतः कलमपो यस्य । पापरहित, यिकाक्षा (सं० मि.) विगता कक्षा १ep nirin. गिराए, जिसमें पापमो। । रहित, इच्छाका माय । विकल्प ( स० पु. ) जातिमेद। (मारव भीमप) यिकाझा (स' खो०)। विहांपाद | Rorमाए, वियप ( वि.) कयरक्षित, कयवाग्य, विना ' माशाहोन । पार। यिकाम ( स० वि०) मनाशग्य, निकाम। विजयिकदिक (मो०) साममे। कहों को दिक/यिका (स.पु.) यि । १ प्रतिको माया विकगिक और विकनिदिका मो देवा जाता है। माय, किसी यस्तुका रू, रहमादि पदल . ) यिकश्यप ( स० मि.) करापरदिन । (एतरेपमा० ७२५) पर्याप-परिणाम, विकृति, पिमिपा, यित्या | ETH पिया (म.लि.) यि कग-यरन् । यिकाशी, सिंलगे। कामरी भयस्याम बदलनेका गाम पिकार है। पाला। २ विसरणील । (भरण) । जब दहीम पदलना राय उसको पिकार । पिता (iरसी०) विपनोति यि-कप गती मच टा। मोकार सोका कुण्डल, मिहीका पहा । मनिममोट । ( ममरटी० रापमु. ) २ मांसरोहिणो। सपिंपदर्शन मास पर जगम् प्रतिक fanti ___(मन) प्रति वियत दो कर जगरूप में परिणत हुई है। परि. पिया ( स० वि०) यि र यर । विकरार। श्यमा जग मूल प्रति दे। जगत्का माm' (मरल) दोगा, सप सिर्फ प्रहात होरायगो। सय, विहम (मा.पु. पिकस तिथि कसप । भाद्रमा गौर तमोगुणको साम्यायमा नाम हसि। मिसन ( महा० ) मल्ट । प्रस्फुटन, घटना, ifa मोर प्रति शिलगा। दया रूप हो प्रति है, उसमें दूसरी HIM . यिसमा (माल) किमतीति यि-कम-मच-टाए। मानेका गाम विकार पक्षिा , मनोर। या मर रोगा विकसित (Fire) यि हम मा । प्रस्तुरित किया 'पानुमाया गाम पति , धातुसा दो. मा। पांव- त. उगम्भ, गिन, मिस विकार फदसे हैं। यार .. ति, पिशित, उद्धपुस, उभिर, निम, उनिगम, माता है। पानी विमा मही होगमाधि मा. तिEिr.inग, भाकोप, पुल, संपुजन, पुर, होगी। पाको साम्य पपस्या Arn frn IC दिन, दलिल दाग, कुरित, रान, प्राता रहती है, पापी विषमता 3RBIR REAt (नि.) प्रकारको होगामी ( TERMSAREE, सिविकमामि वि.कमगा (fr. मनो। ५ गिगमापार प्रधान nि . HIDERED A R ) पर । १ विकागपं.भनुमार प. गागरा प हो :