पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/३५१

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


विधत-विचक्षण को भनदान कर स्वयं मयशिष्ट मान भोजन करते हैं। , विनागित् (सं० पु०) विनायक, गणेश ।। विधान (सां. पु०) विशेपेण हननमिति वि-हन घण। विघ्ननायक (० पु०) विन नां नायक प्राधाभ्यरत्वात् । घ्याघात, शिन, बाधा । २ भागात, चोट । ३ विनाश ।। गणेश! ४ विफलता, सफल न होना। ५ विध्वस्त, तोड़ना | विनाशक (सं० पु.) विमानां नाशका | गणेश । फोहना। विननाशन (सं० पु० ) नाशयताति नाशना विमानां विघातक ( स० वि०) १ उपाघातक, विघ्न डालनेवाला। नाशनः , पष्ठीतत् । गणेश। २ माघातकारो, चोट पहुंचानेवाला । ३ यिनाशक, हत्या | विनानि (सं० पु.) गणेश । करनेवाला। शिनप्रिय (सं० क्लो०) ययन ययागु, जीकी काजो। विधातन ( २०लो०) यि-इन-ल्युट । १ विनाश, हरया- | विनराज ( सं० पु०) विघ्नानां राजा, ६ तत् । फरना। २ नाघात, चोट पहुंचाना। गणेश। विधाती (० लि.) १नियारक, रोकनेवाला । २घातक, | विनवत् (सां. नि०) विघ्नविशिष्ट, विनयुक्त । हत्या करनेवाला । ३वाधादायक, वाधा डालनेवाला विधिनायक (सं० पु०) विमानां विनायकः। गणेश। ४ गट। ५ च्याहत, मना किया हुआ। ६ ध्वस्त, सहस | यिनहस्त ( स० पु०) १ गणेश । (नि.)२ यिनहर्ता, मस किया हुआ। विघ्न हरनेवाला। विधूणिका (सं० स्त्री० ) नासिका, नाक । | विघ्नहारी ( स० पु०) १ गणेश । (नि०)२ विनहारक। विघूर्णन (सं० पु० ) चारों ओर घुमाना, पकर देना। विनाधिप (० पु०) गणेश । विधृत ( नि० ) रसोपेत । (ऋक १५४१६) विप्नातक (सं० पु० विमानामन्तकः । विनर, गणेश । विन (io पु० लो०) यिहन्योऽनेनेति वि-इन क; पनक- विधानम् । पा ३३।५८) १ व्याघात, अड़चन, सलल । विनित (सं० त्रि०) गिनी जातोऽस्य तारकादित्यादितच् । संस्कृत पर्याय-अन्तराय, प्रत्यूह । ( अमर २ कृष्ण- जातविघ्न, जिसके विघ्न उपस्थित हुआ हो। पारफला। (शब्दन्द्रिका) विघ्नेश (सं० पु० ) विघ्नानामोशः। गणेश । यिक सं० नि०) यिनकर, बाधा डालनेवाला। | विघ्नेशवाहन (सं० पु. ) विघ्नेशस्य वाहना ६-तत् । महा. यिकर (सं० वि०) विघ्नं करातीति विन-कटावित मूषिक, गणेशका वाहन, चूदा। कर्ता, यिन करनेवाला। विघ्नेगान (0 पु०) गणेश। यिनकर्स ( स० वि०) विनकर, वाधा डालनेवाला। विघ्नेयर (सं० पु० ) विघ्नानामीश्वरः । गणेश । पिरकारी . नि० विघ्नं तं शोलमस्येति, कृ-णिनि । विघ्नेशानकाना (सं० सी०) विघ्नेशानस्य गणेशस्य १ चोरदर्शन । २ विघातो, वाधा उपस्थित करनेवाला। । कारता प्रिया, तत्पूजायामेनस्याः प्राशस्त्यात् । श्वेत. विकत (स० वि०) पिन करातीति विघ्न कृ-विवप् । दूर्वा, मफेद दूध। विनकारी । एहस्संहिता में लिखा है, कि कार यदिवाई विड्स (सं० पु० ) अभ्यग्वुर, घोडेपा पुर। गोरसे प्रशिलाम गति में शाम करता हुमा चला जाये, वियक्ति (io नि०) घराया हुआ। तो यात्रा पिन उपस्थित होता है। विधकिन ( पु) १ महिरकामे, एकप्रकारको ___फिर दूसरी जगह लिसा है, कि कुत्ता यदि दात चमेको । २ दमनक वृक्ष, दौनेका पेड़। सोन कर मोठ चाटे, तो देखनेवाले को मिएमोसन प्रान विनया ( सं० वि०) १ चमडोन । (पु०)२ पुराणानुसार होता है। किन्तु मोठ छोड़ कर यदि यह मुंह माटे, तो एक दानयका नाम । परेमेि हुए मोशन में भी बाधा पहुंचती है। , विपक्षण (सं० पु.) विशेषे य च धर्मादिमुपरिनतोति (परत्स. ८ ) वि-नम ( अनुदालेतान स्सा 1 पाAYE पनि