पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/४७८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


४०० विध-विधवा का पात्र या भाजन, जिसके साथ विद्वप किया जाय। विधार्गक (सं०नि०) विशिष्ट धर्मशील 1 .. .. विध ( स० पु०) विध-क, अच् वा । १ विमान । विधान (स० पु०) १ सुधर्मा, उत्तमर्गयुक्त । २ विधा- २ गजभक्ष्य अन्न, हाथोके खानेका दाना । ३ प्रकार, रक! ३ विधारण । भेद । ४ धेधन, छेद करना। ५ ऋद्धि, समृद्धि । ६ घेतन । विधर्मिक (स त्रि०) १ अधार्मिक, 'जो धर्माविरुद्ध ७ कम्म', कार्य। ८ विधान, विधि, नियम । आचरण करता हो। २ भिन्नधर्मा, जो दूसरे धर्माका विधनी (स स्त्री० ) ब्रह्माकी शक्ति, महासरस्वती। अनुयायी हो। . ... . विधन (सं० पु०) जिसके पास धन न हो, निर्धन, गरीब । विधमों (सं० वि०) धर्मभ्रष्ट, जो अपने धर्मके विपरीत । विधनता ( स० स्त्री०) विधन होनेका भाव, निर्धनता, भावरण फरता हो । २ परधर्मावलम्बी, जो किसी दूसरे गरीयो । धर्मका अनुयायी हो। विधना (हिं० कि० ) १ प्राप्त करना, अपने साथ लगाना, विधयता (सं० स्त्री० ) वैश्य, पतिराहित्य । , ..... अपर लेना। (स्त्री०) २ यह जो कुछ होनेको हो, भविः | विधयन ( स० क्लो०) वि-धूल्युट.। कम्पन, फापना। तथ्यता, होनो । (पु०) ३ विधि, ब्रह्मा। विधययोक्ति ( स० स्रो०) विधया एय योपित् भापित.. . विधनीकृत (स० वि०) जो निधन किया गया हो। पुस्कत्वात् पुस्त्वम् । विधवा स्त्री, रांड, घेगा। .. मया "यूतेन विधनीकृतः" (कथासरित्सा० २४५८) . . . . . . . . विधवा देखो.। विधनुष्क (सं० वि०) धनुहीन । विधया ( स० स्त्री०) विगतो धवो भर्ता यस्या। मृत. विधनुस् (सं०नि०) च्युतधनु । भर्न का स्त्री, जिस स्त्रीका पति मर गया हो । पर्याय - विधन्यन् (सं० वि०) जिसका धनुष नष्ट हो गया हो, विश्वस्ता, जालिका, रएडा, तिनी, यति । (शब्दरत्ना०) खण्डित धनु। धर्मशास्त्रमें हिन्दू विधयाके कर्तव्याकर्त्तव्यका विषय विधमचूड़ा (सं० स्त्री०) जिसका अग्रभाग पा चूड़ा धूम | विशेषरूपसे वर्णित हुभा है। या अग्निसंयुक हो। . स्वामीको मृत्यु के बाद तो उसका अनुगमन करे या विधमन (सं० पु० ) धौंकनी या नल आदिके द्वारा हवा | ब्रह्मवर्याका अवलम्बन फर जीवन अतिवाहित करे। पहुंचा कर आग सुलगाना, धौंकना। " स्वामोका अनुगमन या ब्रह्मचर्य . ये दोनों हो" इच्छा विधमा (स० स्त्रो०) विमा श तस्मिन् परे धमादेशश्च । .विकल्प है अर्थात् इच्छानुसार इन दोनों में एक करना ! १ विकृत या विविध शब्दकारिणी। २ विकृतगमनः | न होगा। ब्रह्मचर्य शब्दका अर्थ-मैथुन और ताम्बूल आदि शोला। . . . वियर्जन समझना होगा । "ब्रह्मचया उपस्थसंपमा" विधरण (सं० पु०) १ पकड़ना, रोकना । २ विधृति देखो। उपस्थ संयमका नाम ही ब्रह्मचर्या है। ब्रह्मचारिणी विध (सं० त्रि०) विधृ तृव । १ विविध कारक। विधयाको स्मरण. कीर्शन, फेलिप्रेक्षण, गुह्यमापण आदि २ विधारयिता, विधारणकर्ता । ३ विधानफर्ता, विधान | शास्त्रोक अष्टाङ्ग मैथुन नहीं करना चाहिये। ताम्बूल- या विहित करनेवाला। .. . . .सेघन, अभ्यञ्जन और फूलको थाली में भोजन, विधवा विधर्म' ( स० पु० ) १ अपने धर्मको छोड़ कर और लिये अवैध है। विधयाको दिन में एक बार भोजन करना 'किसीका धर्म, पराया धर्म। २ अपने धर्मको छोड कर चाहिये । उसफो पलङ्ग पर सोना उचित नहीं, यदि .. दूसरेका धर्म प्रहण करना जो पाँच प्रकार के अधों में से | वह सोये, तो उसके स्वामीको अधोगति होती है। .पक कहा गया है। (नि०) ३ धर्मशास्त्रनिन्दित, जिसके विधवाफो किसी तरहके इत्र आदिका व्यवहार न करना धर्मशास्त्र में निन्दा की गई हो। ४ गुणहोण, जिसमें चाहिये । नित्य कुशतिलोदक द्वारा वह स्वामीका तर्पण गुण न हो। . . . . . . . . . : : करे। पुत्र और पौत्र.न रहनेसे तर्पण अवश्य विधेय है।.'