पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/५३२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


. . . विमतोप-मिलम्भ विप्रतीप (सं० वि०) प्रतिफूल, विपरीत । - विप्रमोक्ष (सं० पु.) विमुक्ति, विमोचन । विप्रत्यय (सं० पु०) कार्याकार्य शुभाशुभ और हिताहित- | विममोक्षण (सं० लो०) विमोचन, विमुक्ति। . . . विषयमें विपरीत ममिनियेश 1 ( चरक शा० ५२०) विममोचन (सं०नि०) विमोचन योग्य। । । यित्य (सं० सी० विप्रका भाष या धर्म। - विप्रमोद (सं० पु०) १ विशेषरूपसे मुग्ध होना: २ चम- . विप्रथित (सं० वि०)विण्यात, मशहर । स्कार। विपदा (सं० पु० ) विशेषेण प्रकृष्टश्च दद्यते इति दह-घ । विप्रमोहित (सं० वि०) १ विशेषरूपसे मुग्ध । २ चमत्कृत। फलमूलादि शुद्रश्य । (शब्दच०) विप्रयाण (सं० लो० ) पलायन, भागना। . विप्रदुष्ट (सं० वि०) १ पापरत । २ कामुक, कामो । विप्रयुक्त (सं० त्रि०) विप्र-युगक्त । १ विश्लिट, जो ३ मन्द, नष्ट। मिला न हो। २ विछुड़ा . हुआ। ३ जिसका विभाग विप्रदेव (सं० पु०) भूदेव, ब्राह्मण । हुगा हो। विप्रधावन (सं०नि०) इधर उधर पगले की तरह तेजोस | विप्रयोग ( स० पु०) विगतः प्रकृष्टो योगो यन। १ विप्र.. चलना। लम्भ, वियोग, विरह । . २ विसंवाद, पुरा समाचार । विप्रधुक (सं०नि०) लाभकारी, हितकर । । ३ विच्छेद, अलग होना । (मनु ॥१) ४ संयोगका अभाष । विनष्ट (सं०नि०) विशेषरूपसे नष्ट। विप्रयोगिन् (सं० वि०) १ विरहो । २ विसंवाद। . . यिप्रपद (सं० पु० ) भृगुमुनिको लातका चिह जो विष्णुके | घिराज्य ( स० क्ली० ) १. ब्राह्मणराज्य । २ विशेषरूपसे। वक्षःस्थल पर माना जाता है, विप्रचरण । राजत्व । । विप्रपात (सं० पु.) १ विशेषरूपसं पतन, विलकुल गिर | पिपराम (0 पु०) परशुराम । जाना । २ ब्रह्मपात । ३ अंचा ढालयां टोला । ४ खाई। विप्रिय (सं० पु०) विप्राणां प्रियः ( यशोय मत्यात्)। विप्रपि ( स० पु० ) ब्रह्मणि। ( भारत ५५०) विप्रलपित ( स० वि०) १ पिप्रलापयुक्त । २ मालोचित। ' १ पलाश वृक्ष, ढाकका पेड़ । २ ब्राह्मणका प्रेम-भाजन । विमलप्त (०.ली.) १ कथोपकथन, वातचीत । २ पर. विप्रयन्धु (सं० पु०)१ गोपायन गोताय मम्बद्रटा माप. स्पर वितण्डा, आपसमें तर्क वितर्क। .. . भेद । २ वह ब्राह्मण जो अपने कर्मसे ध्युत हो, नोच विप्रलब्ध (सं०नि०) विप्र-लभ-त । १ घञ्चित, रहित । ब्राह्मण विप्रयुद्ध ( सं० वि० ) १ जागरित, जागा हुआ । २ शान- २ विरहित, न्य। ३ विच्छिन्न, यियोग दशामात । प्राप्त। ४ प्रतारित, जो छल द्वारा किसो लामसे यश्चित किया विप्रबोधित (सं० वि०) १ जागरित, मागा हुभा । २ विशेष गया हो। . . . रूपसे विख्यात, जो साफसाफ समझाया गया हो। विपलब्या (सं० स्त्री०) १ नायिकामेह, यह नायिका जो विप्रमठ (सं० पु०) ब्राह्मणोंको मठ । (कथासरितमा०१८।१०५), सङ्केतस्थानमें रियको न पा कर निराश या दुःसी हो। विधमत्त (सं० त्रि०) अतिशय प्रमत्त । इसको चेप्टा-निर्वेद, निश्वास, सखोजनत्याग, भय, —(कथासरित्सा० ३४।२५५) मूर्छा, चिन्ता और अश्रुपातादि । विमलचा फिर चार पिनमनस (सं० त्रि.) अन्यमनस्क, अनमना।' प्रकारकी है, मध्या, प्रगलमा, परकीया और सामान्य- यिनमन्मन (सं० त्रि.) मेधाविस्तोता, मेधावीगण जिनका विप्रलक्ष्धा।', . . . ।। तव करते है।

विप्रलम्बू (सं०नि० ) प्राचक, शठ, धूर्त। विप्रमाधी (सं०नि०)मर्थनकारी; खूब मयनेवाला। २. विप्रलम्मक-विपक्षम्भक देखो। ध्वंस या नष्ट करनेयाला ।३ आकुल या क्षुध करनेवाला। विप्रलम्बी (० पु०) देववरफ, किकिरात वृक्ष । विप्रमादी (स० वि०) १ विममत्त । २ यदुत नशाम्रोर। विप्रलम्भ (स० पु०) पि-प्रलम-घन नुम् । १ विसं. ३ अमनोयोगी। : । .... | वाद, विरोध। २ वचना, घोबा, छल। ३ विप्रयोग,