पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/७३५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


विश्वावसु-विश्वेयेदस् ६४७ विश्वावसु (सं० पु०) विश्वं पसु यस्य, विश्वेषां घसु विश्वासह (स' त्रि०) सर्वाभिमवकारो, शलुओंका यस्माद्वा। दीर्घः (पा ६।३।१२८ ) १ अमरावतीवासी दमन करनेवाला। विश्वासाहमवसे" (ऋक् ३१४७५) • गन्धर्वभेद । २ विष्णु । (महाभारत ६६२२४५) ३ वत्सर- विश्वासाह (सपु०) विश्वासह देखो। विशेष, एक संवत्सरफा नाम । इस समय कपास महगो विश्वासिक (सं० त्रि०) विश्वासके पात्र, जिसका विकतो है। (स्त्री० ) ४ रात्रि, रात । ( मेदिनी) विश्वास किया जाय। विश्वावसु कापालिक-भोजप्रयन्धोद्धत एक कवि। विश्वासिन् ( स० वि०) विश्वासोऽस्यास्तीति विश्वास विश्वावास (सं० पु०) १ सयोंकी आवासभूमि, सभी इनि । १ प्रत्ययशील, जिसे विभ्यास करता हो । २ जिस- लोगों का वासस्थान । २ विश्वाश्रय, सवों का माधय का विश्वास किया जाय । स्थान। विश्वास्य (स० वि०) विश्वासके योग्य, जिस पर विश्वास (सं० पु०) विश्वस-घम् । १ श्रद्धा.। २ प्रत्यय, विश्वास किया जा सके। किसीके गुणों आदिका निश्चय होने पर उनके प्रति उत्पन्न विश्याहा ( स० अव्य० ) प्रतिदिन, रोज रोज । (ऋक होनेवाला मनका भाव, पतवार, यकीन । संस्कृत पर्याय- १।२५।१२) यिथम्भ, आश्वास, आश्रम। ३ मनकी यह धारणा जो विश्वाहा (स स्त्री०) १ शुण्ठी, सौंठ । २ बाहुशाल विषय या सिद्धान्त मादिकी सत्यताका पूरा पूरा प्रमाण | गुड़ । न मिलने पर भी उसकी सत्यता सम्बन्ध होती है । विश्वेदेव (सपु०) १ अग्नि । २ श्राद्धदेव । (संक्षिप्त. ४ केयल गनुमानके माधार पर होनेयाला मनका दृढ सार० उपा०) ३ गणदेयताविशेष। निश्चय: ___घेदसहित नौ देयताओं को एक साथ 'विश्वेदेवा।' विश्वासकारक (सं० लि.)१ विश्वास करनेवाला ।। कहा है। पे देवगण इन्द्र, अग्नि मादिसे निम्न श्रेणीक २ मनमें विश्वास उत्पन्न करनेवाला, जिससे विश्वास | है और सभी मानवके रक्षक तथा सत्कर्मफे पुरस्कार. उत्पन्न हो। • दाता हैं। अक्संहिताके ६।५१७ मन्त्रमें विश्वेदेवोंको विश्वासघात (सं० पु०) किसीके विश्वासके विरुद्ध की हुई। विश्वके अधिपति तथा जिससे शल गण अपने अपने क्रिया, अपने पर विश्वास करनेवालेके साथ ऐसा कार्य | शरीरके ऊपर अनिष्ट उत्पादन करते हैं, उसके प्रवर्तक जो उसके विश्वासके विलकुल विपरीत हो।। । कहा है । उक्त प्रथिके १०११२५।१ मन्त्र में तावत् देवताको विश्वासघातक (सं०नि०) विश्यासं इन्ति या विश्वास हो 'विश्वेदेवा बताया है। अफ् १०११२६ चौर १११२८ छन् ण्वुल । विश्वासनाशक, धोखेबाज । पर्याय-प्रत्यय सूक्तमें विश्वेदेवाको स्तुति की गई है। शुहायजुः २०२२ कारी, विश्वासहरना, मविश्वासी, प्रतारक, पञ्चक । मन्त्रमें पे गणदेवतारूपमे माने गये हैं। परपत्ती पौरा. विश्वासदेवी ( स. स्त्री०) मिथिलाराजपलोमेद । आप | णिकयुगमें इन देवताओंको औदुर्घदेधिक क्रियाका उत्स. विद्यापतिकी प्रतिपालिका थीं। विद्यापति देखो। 'दि पान किया जाता है। अग्निपुराणमें इनकी संख्या विश्वास राय-महाभारत-टीकाकार अर्जुन मिश्र के प्रति दश बताई गई है, यथा-फतु, दक्ष, यसु, सत्य, काम, पालक। ये किसी गौड़ेश्वरके मन्लो थे। काल, ध्वनि, रोचक, आद्रव पीर पुरया। विश्रासन (स० लो०) विश्वस-णिज्ल्युट् । विश्वास, एक असुरका नाम।' पतवार, यकीन । | विश्वेदेव (सपु०) भगांकुर । ( शब्दार्थनि.) विश्यासपान (स0पु0) जिस पर भरोसा किया जाय, विश्यमाजस् (स० पु०) विश्व भुज-मआर विश्यमोजस् (स० पु०) विश्व भुज-असि सप्तम्या विश्वास करने के योग्य। मलुक। ( उणा २२२३७ ) इन्द्र। विश्वासस्थान (को०) विश्वासमाजन, यह जिसका विश्ववेदस् (सपु०) विश्वे विद्-ममि विदिभुजिभ्यां विश्वास किया जाय । विश्व। उण ४।२३७) अग्नि ।