पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/१५२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


१४६ दोवान बना कर भेजा। इस समय कुमार पाजिम-उशान थे। मग और प्रामामवासियों के पाक्रम से उपकून सम्राट के प्रादेशसे वङ्गदेशको निजामतमें नियुक्त थे। प्रदेश की रक्षा करनेके लिये नवागको आय खर्च होतो मुर्शिदने ढाका जा कर मम्राट पात्रको बहुतसो जागोर थी। नवारा भो फिर कई एक तालुकों में विभक यो। साम्राज्य के अन्तर्गत कर लो। म पर पाजिम उशान मल्लाह प्रभृति अपनी तनखाहके बदले इस तालुकको प्राय अत्यन्त विरत हो कर मुर्शिदका प्राणनाश करने के लिये भोग करते थे। हम तरह नवाब प्रधान सेनापति षड़यन्त्र में प्रवृत्त इए । मुर्शिद अमम साहससे षड्यन्त्र । En मी मारममे पडयन प्रादिका खर्च चलाने के लिये सरकार पलि, पाहमाम कारियांक हाथमे छुटकारा पा कर मुर्शिदाबाद में जा कर प्रभृति प्रदेश प्रवधारित किया था । रहने लगे। यह सब हाल जान कर मम्राट ने अपने नवाब ढाकासे निमलिखित कर वसूल करते थे- पोत्रको विहार भेज दिया भोर मुगिटकलोखाको नाजिम (१) पट्टा बदलने के ममय जमोन्दारसे एक प्रका- बनाया। फरुखमियरके राजत्वकानमें वे प्रक्कत ना :म रका कर। हो गये। इस तरह १७०४ ई में ढाकामे राजधानो उठा (२) ईद तथा ओर दूपरे दूसरे मुख्य मुमलमान दो गई। पूर्व प्रदेशके शामनका भार एक नायब अर्थात पर्वाम नवाब के निकट जितने उपहार भेजे जात, उत- अधोन नाजिमके ऊपर सोंपा गया। १७१३ ई० में मिजो न का खच जुटाने के लिये एक प्रकारका कर । लमाफउलाने त्रिपुरा राज्यको ढाका निजामतके अन्तर्गत (३) विभागाथ राजस्व 6 ऊपर मकड़े कर । किया। परवर्ती अधिकांश नायब ही अधीन कर्मचारी (४) ढाकासे राजधानो दूमा। जगह ले जाने में नायब पर इसका भार मौप कर मणि दाबाद में जा बसे । एमा द्वारा यहोत जमान अपर एक प्रकारका स्थायो कर । होनसे पनिक कम चारो ढाका और निकटवर्ती स्थानों (५) महाराष्ट्रीय चौथ । अधिवासियाका सर्वस्व हरण कर आप धनो हो गये। निम्नलिखित विषयों मे मायर लिया जाता था। १७६५ ई. तक ढाकावामियोंने इस तरहका अत्याचार (१) नौ का प्रस्तुत जितने जलयान ढका बन्दरम सह्य किया। इस समय अंग्रेज कम्पनोने बङ्गालको आते अथवा वहांने टु मगे जगह जाते उनके ऊपर भो दीवानी पाई । तब इजरी और निजामत इन दो विभा- यह कर लगाया जाता था ) (२) बजारम बेचे जाने के गों में ढाकाशामनका बन्दोवस्त हुआ। गजस्वमम्बन्धोय ट्रय ( ३ ) घाम वेचना ( ४ ) जा बाजारमें बेचने के लिये प्रथम विभागका कार्य मुर्शिदाबादके दोवान द्वारा बाम, पयाल आदि लाते थे। (५) जो युद्ध मज्जा प्रस्तुत चलाया जाता था। दीवानो और फौजदारी अभियोग करते थे। (६) भिन्दूर प्रस्तुत । (७) पान बेचना । प्रादि दूमरे विभागके अन्तर्गत थे। १७६८ ई में दोनों (८) माकसलो पाद बेचना (८) कागज बेचना । (१०) विभागको टेखभाल करने के लिये एक कर्मचारी नियुक्त नगरमें जो व्यवसाय करते थे । (११) दुकानदार इत्यादि । हुए। १७७२ ई०से यहां कर्मचारी कलेकर कहलाता (१२) बानर, भाल, नाप खेल इत्यादि काममि जो रहे हैं। इमो वर्ष एक दीवानी पादालत और १.१७४ नियुक्त रहते थे । (१३ ) गायक । ( १४ ) काष्ठविक्रय । ऐ में एक कोन्मिल स्थापित हुई। नायब राजस्व वसूल (१५) वजन या तोलके निरीक्षक कर्मचारा भो संकडे तथा दोवानो अदालतमें विचार करते थे । उक्त कौन्सिल पाने के हिसाबसे कर लेते थे। मैं इनके कार्य का प्रतिवाद किया आ सकता था। मुगल सम्राटोक प्रधान ढाकाका राजख वसूल १७८१० कौनिमल उठ गई पोर राजकीय कार्य ___ करने में कुल राजस्खके मकड़े दश रुपयेसे अधिक खर्च आदि चलाने के लिये मजिष्ट्रेट, कलेकर जज प्रभृति नहीं होता था। कम्मनो के दोवानो ग्रहण करने पर नियुक्त हुए। ढाका का राजस्व कुछ कम गया। थोर प्रभृति मन्यान्य पूर्व ममय के जागीरदारो ने ढाका विभागकाश स्थान ढाका विभागस पलग कर दिये गये। किन्तु अधिकार किया था। प्रधान जागारको नवारा कहते १७८३ ई. के चिरस्थाया बन्दोबस्तके समय बाखरगल