पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/२०३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


प्रयागुष- विवागसंग तथागुण (सं.नि.) तद्पषसम्मक, पेसा ही गुरु तव्यभावो ( नि.) भात भाष-विनि। बवा. वान्। वादो, माफ घोर संबो बात करनेवाला। तथा (स.पव्य०) तथा च च, च, इति, हम तापि, सम्यवादी (स. वि) सम्यं वदति बह-विनि। तौभी। तबमाषी देखो। तथाता (सो .) तथा भावे तम्ल-टाप् । तथात्व, उस तयानसन्धान (सं.ली.)तष्यस अनुसन्धान, सत्। तरा। ____लत अवस्थाका अनुसन्धान। तयात्व ( लो) तथा भावे त्व। सथाभूतत्व, स ट ( वि.)तत पाहितिष। पिता परमय तरह। . विशेष, वह। इसका प्रयोग बौगिक ब्दोंने पारधी तथापि (मषष्य. ) तश च पपि च, इन्। तत्रापि, होता है। तस् देगे। तो भौ, तिस पर भो, तब भी। नदश (सं० पु० ) तस्य यः, (तत् । उमा भाग या सथाभावो (म वि०) तत्समावसम्पब, उमो स्वभावका। लिया। नयाभूत ( स० वि०) तेन प्रकारण भूतः भूकतरिक। ' तदनिरिक ( स० वि. ) तस्य पतिरिक्ष, सत् । उमक उसी प्रकारसे सम्मक, उसो तरहसे भया हुआ। तथामख सवि० ) उम्रो भोर मुख घुमा कर। उसो मधिक (स.नि.) तदतिरिता, उसझे पवावा। पतिरिक्ष, उसके मिया । ओर मुंह रख कर। | सदात (म• वि०) १सो प्रकारसे ममा होगा। तथाराज (स.पु. ) तथेति रामते राज-टच् । बुद्ध । (पु० को.)२ पभिप्राय, मतलश । कथारूप ( स० वि०) सदनुरूप, उसो प्रकार। सदनन्तर ( स० की. ).समके पौड रसके उपरान्त। ' तथारूपो-तथारूप देखो। । तदन्तर (सलो .) तस्य पनन्तर सत्। उमके बाद, तथाविध ( स० वि०) तथा विधा यस्य, बहुब्रो । तादृश, . | उसके पीछे। उसी प्रकार। तथाविधेय ( स० वि० ) उसी प्रकार कर्तव्य, जो उसो तदा ( म. वि. ) तदेव पन' यस्य, बहुप्री०। जिस तरह किया जाय। रह जाग्रत पवस्था में पवादि भोजनमोल उसी मरण तथावत (सं.वि.) उसो सरह व्रतपरायण । खप्रमें भी। तथास्त (भव्य ) वैसाही हो। सदनु, (स'• कि० वि०) १ एक उसी प्रकार, उसो त । तथास्वर ( म० वि०) उसो तरह उच्चारण किया हुआ। २ उसके बाद तदनन्तर । तयामि (स अव्य. ) तथा च हिच, इन्दः ।। निदर्शन, तदनुरूप (म. वि.) तख पनुरूप, सत् । तप । उसोके जेसा। दिखलानको किया । २ प्रसिक, ख्याति । ३ ममर्थन। तथैव ( स०अव्य ) तथाच एव च हनः । तहत, उमौ तदनुसार ( स० पु० ) तस्य धनु सार; ततउसके तरह माहो। मनु कम्ल, उसके मुताबिक । तथैवच (स.अव्य. ) तथा च एव च चच, हनः । उसो तदन मारी (स० वि०) तदन मरति नरपिनि । प्रकारसे ही। तदनुयायी, उमौके पन मार चलनेवाला। सथ्य ( को०) तथा साधु तथा यत् । (तंत्र साधुः।पा तदन्ध ( स० वि०) तस्मादन्यः ५ वत्। तजिक, उससे १८) १ सत्य, यथार्थता, सचाई। (वि.) २ तद्युत। पसग । तयज्ञान ( को०) तथ्यस्य शान, तत्। यथार्थ सदन्यबाधितार्थ प्रसा (स.पु.) तदन बाधितास्य भान, प्रात जाम | तत्ववान देगे। प्रसाः। प्रमाणबाधित पर्वका प्रसारूप तमिद, नव्य तबोध ( पु.) तथ्यस बोधः सत् । ताम, ग्यायम तक के पांच प्रबाम एकपांच प्रकारक प्रसतानाजानी। तको नाम-पानावय, पन्चोन्याचब, बबन