पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/२०८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


१.४ युख, जिसमें घोड़ी छाया हो। (बी०) सम्बो छाया, तनुमध्या (सं० सी० जनुं अंश मेध यस्याः, बहवो ० कराधा ४ काय। १ कथमच्या जिमक..॥ त क भूत। तनुज (म. पु. नाज यत जन-3 । १ पुत्र बेटा . नाम जिसक प्रत्यं क चर। एक तमा एक यगत २ जन्मकुण्डलाम नग्न पाँनया स्थान। है। इसको चोरस भी कहते है। ३ जिमका बावका तनुजा ( म. सो० ) तनुज स्त्रियां टाप । कन्या, बैटो। भाग पतला हो। समता ( म त्रो०) तनु भावे सल. टाप । १ तन्व, तनरम (सं.१०) तनोद उस्य रम इव । धर्म, पसोना । लगता, दुर्बलता, दुबलापन । २ लघुता, छोटाई तनराग (म. पु. ) एक प्रकार । सुगन्धित उबट, जो तनाज ( त्रि.) तमु त्यजति त्यज विप.. तनु केर कस्सग, चन्दन काम, गर प्रादिको मिला कर त्यागकारी, जो शरीर छोड़ता हो। बनाया जाता है। तनुल्याग ( म०पु) तन न त्यागः, ६-तत्। देहत्य ।। तनकर ( स०ए०) तना तवां वारविकर लिय । तनत्र ( म क्लो०) तनु वायत वा धम, कवच, लोम, रारपाक बाल संगटे। बखतर। तनुका मलो०) तना तन्वां वागेहति कहक । लोम, समुत्रवत् ( स० वि० ) तमुत्र विद्यमे प्रस्य तनुत्र-मतुप । गेम, गेओं। समरधामी, कवच धारण करनवाला। तमुल (म' त्रि.) तन- उल्च। विस्तात, फैला हुआ। तन्त्राण ( म० क्लो. ) तनुस्वागतऽनेन से करण ल्य.ट, । ' सनुव त ( म०१ ) ता: बोग: वाल: या बहुव्रो । १ वह चीज जिममे शरीरको रक्षा हो । कवच, बग्वतर। भरकविशेष, एक नरक ! नाम। (वि.) २ घना वायु तनत्यच ( स. स्त्रो) तन्वो स्वक वल्कन यस्याः, युक स्थान वह स्थान ..वा बहुत काह। बहुव्री०। १ खुदाग्निमन्यक्ष, छोटो अरणी (त्रि०) तनुवार (म०ला.) तनु दे। कृति प्रण, उपपदम। २ सूक्ष्मत्वगयुत्ता, जिमको कालपतलो हो। कवच, बखतर। समुधारी (सं० वि०) गेग्धारो, शरीर धारण सनुवोज (म• पु०) तननि कगानि वोजनि यस्य बहवो० । करनेवाला। मन पर (सं० पु० ) तन नि कणानि पत्राणि यस्य, १ राजबदर, गज बेर । (वि.) २ स्वल्प जियुत, ___ जिसके वोज बहुत छोटे हो। बहुबो०। १ दोवृक्ष, गोंदनी या गोंदीया पड़। (वि.) २ अल्पपत्रयुक्त वृक्षमात्र, जिसमें यहुत कम ' तनुव्रण ( स० पु. ) तनुः क्षुद्रः व्रणो यत्र, बहुव्रो०। पत्तं हों। वल्मोकरोग। तनुपात (सं० पु० ) मृत्यु , मोत । तनुम (मलो०) तनोति तन उम। परन, दे। सनुबोज ( म पु० ) १ एजबेर। (त्रि०) : जिमके तनुमचारिणो । स स्त्री० ) तनु अल्प य तथा भवति बोज छोटे हो। समचर-णिनि-डोर । यवता स्त्री, वान पारत। सनुभव (स पु०) सनोभवति भू-अच, ५ तत्। १ पुत्र, तनुसर (म० पु०) तनो: सर.त तनु-स् पच, ५-तत् । बंटा। (स्त्री०) २ कन्या, बेटी, लड़की। खेट, पमोमा। समुभस्वा (सं० स्त्री०) तनोः शरीरस्य भस्वारय । नासिका, तनुजद स पु०) तनोद पव। पायु, मलदार, गुदा । नाका तन (सं० पु०) सनोति कुल तन । १ पुत्र बेटा, तनुभाव (म. पु.) दुबला। लड़का । २ अरोर, देह। ३ प्रजापति। ४ गा, गाय । तनुभूमि ( म खो०) बोडावीके जीवनको एक ५ अप जल, पानो। अवस्था। तन करण ( स० लो. । अतनु तनु करण' अभूतमहावे सनुभूत् (त्रि.) तनुविभतिभ-लिया। देहधारो, धि। पल्याकरण. छोटा करना । सोरमारथ कामवाला। सनक-मदान प्रदेश राणा जिला पन्तर्गत एक