पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/३८९

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


यसको हिटर वा रिसिभर ( Indicator or Reem पपरो र eiver) (पर्थात् संवाद निर्देश वा ग्रहण करनेका यन्त्र) | अगरबासीहोजातोही दोन पस 'उससे प्राय दूना खानसामोरा जाता । एक लारनके तारसे ताडितप्रवाह वाही उस साहितोय काटेके याममें ऐसा सिपाहियो तरकार चुम्बकको तार कुण्डली में हो कर जामा है, त्यों होरम विक दारिलो पोर भवा चा मालम हता। का लोह सुम्बवरूप में परिणत हो जाता है पोर मचिलित फलतः, ये यथासमी मोर्चान्दु पोर का लोहट गउको पाकर्षित करता है। उम लोदण्डका समान मानो वरमालाकी मा एक छोर नोचेको आकष्ट होने पर दूसरा छोर जिममें | उपर्युज चिजोंग सिन्दीप, पा, कपादि भी पेन्सिल वा सुई लगो होतो है, ऊपरको उठ जातो . | सूचित विदे जा सकते। और फिर वह सुई या पेन्सिल कागजसे लग जाती है। संवाद भननेका पत्र पामोई बाय चाची (Morse's बम प्रकार जब तक ताड़ितप्रवाह प्रवाहित होता रहता key)-या बन्न एक लबाड़ीकीबोटी पटिया पर बना है, तब तक सुई या पेन्सिन कागजसे मटो रहती है और साहितप्रवाहक बन्द होते हो 'प्रिड 'के जोरमे वह धनग हो जाता है। ताडित-स्रोतको कम वा अधिक समय तक प्रवाहित कर, संवाददाता पच्छानुमार कम वा अधिक ममय तक पेन्सिल वा सुईका मुंह कागजसे है। इसके जपर 'पसानी निवास मव मटाये रख सकता है। उपरोक्त कागजका फोता एक दहपस्थित रसमा प्रान्त ' छोटे पहिये पर लिपटा रहता है और वह हाथमे या सर्वदा तारके साथ लगे हुए नाम एक पडोको भौति किसो यन्त्र के द्वारा समानरूपमे शौचा गड मसम्म रहता है, और अपर प्रान्त अपक्षी जाता है । सुतरा पेन्मिल वा सुई अपमान वा कुछ उठ जाता है।लापनशातारदहशाब- अधिक ममय तक, कागजके फोन पर मटी रहनेमे उस धातुख तारके हारा ताडितोवी एक कागज पर क्रमश: बिन्द (-) वा रेखा (--) पनि हो मेहके साथ संलग।' धातुपित ताव जातो है। कहीं कहीं पेन्सिल वा सुईके बदले स्याहो. हारा डिमेट वा निर्देशक यम्बी साध । का बारोक नल व्यवहत होती है। इमसे पिक भी स्पष्ट . इमाम वा बन्ध कोई परिचालक पदार्थ निर्मित होता है और अपेक्षालात क्षोणतर ताडित-प्रवासे काम शेटास(हवा), सचिवमै सबार-बार सन जाता है। इन बिन्दु और रेखाकि विन्याससे ममम्त पक्षरोंका विन्यास हो जाता है। मोचे मोम के ममय इसको जेमी भवसाहतो,हो दिपार माहब टेलिग्राफको वर्णमाला लिखी जातो गई। दूमरोजगी ताड़ितप्रवार सारिन ' तारम हो कर पाता और इलम प्रविधता B-.. C -.- 2.. - - - है; फिर वहसि प्रान्त होकर तारा 3..- - - संवाद-निर्देशक बन्धको तार भयो परिचम करता हुमा भूमिम प्रवेश करता नियमित मात समय वहा मतापितही जाता।। संवाद मनते U..- समय, संवाददाता जोपी दावार के 8 - - -.. साथ ताडितकोषका संबोन परतावी उसका .Understood...- दूसग गरी वाता। फिर ताति- कोपर तारा " पी . 1 VoL Ix." - . 10--- ARREOF 3...