पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/६८७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


१७७४ में एक सन्धि । इस सन्धिमें सबर्दा, (१८०७-)-इसके बाद प्रथम पादुखशामिदके पाजफ, किलबरन, फार्च, येनिकल, बोग और निपर पुत्र मुस्ताफा राजा हुए। इन्होंने बतीय सखोमको नदोके मध्य प्रदेश माणसागर, बसफरम तथा दान- संस्कारविधि परित्यागपूर्वक प्राचीन प्रथा अवलम्बन लिसमें प्रवाधगति एवं मलदेभिया और उपालसियाका करके विद्रोह दमन किया। ममे तुकको मेना परा- रक्षामार तथा तुरका सामाज्य के समस्त प्रोकसमाज जित हुई। रमक नामक प्रदेश के पाशा मुस्ताफा वर- भुतरमा योक जपर रूसका प्रभुत्व फल गया था। तारने ससैन्ध पावर सुखतानको राजचुत करना चाहा। क्रिमियाक खो स्वाधीन हो गये। सोन वर्ष बाद कारावा तोय सलोमको इस विद्रोहका मूल समझ अष्ट्रियाको बुझोनिया छोड़ देना पड़ा। इसको पौडे पर सुलतान मुम्ताफाने उन्हें मार डालनेको पात्रा दो कमसे क्रिमिया ले लिये जाने पर तुरुष्कामें घमसान बुद्ध किन्तु वे ही बहुत जल्द पायासे गन्यताए । को तैयारियाँ होने लगी। हसिया भो अष्ट्रियाक माघ (१८०८-४.)-उनके बाद उनके भाई हितोय मिल गया १७८७ ई में यह युद्ध पारंभ हुमा । म बुधर्म मामुद गजा हुए । इन्होंने सुलताम बतोय सलीमको सुरुषोंने अष्ट्रियाक अपर अपना प्रभुत्व जमाया, किन्तु कारागारमे मुक्त किया। वे उनके मतानुमार राज्य रूसियासे पराजित हो गये। इसके बाद सुखतानको करने लगे। पभो य गेपोय पण्याग्य राज्योंके साथ पात्रता बांधनेसे तुमको जिम सब संसारको पाव. (१७८८-१८०१)-उनके बाद व्रतोय मुस्ताफाके श्यकता होगो, सुखतान नये सुलतानको उनके पुत्र वृतोय सलोम राजा इए। म समय इस पौर विषय में उपदेश देने लगे । पाथा मुस्ताफा प्रधान बोर अष्ट्रियामें लड़ाई छिड़ी हुई थो । कई एक यु धर्म तुबक एए। सखारविधि अवलम्बन कर जेमिमेरो पुनः विद्रोही पराजित हुए । इस युद्ध में तुमक ताम-नहस हो जाता; हुए। विद्रोहियोंने पापुर पर पानाम किया। किन्तु इंगलैण्ड, फ्रामिया और खोडन इसके बोच में पड़ राज्यको बचाने के लिये प्रधान बजारने राज्यात मुल. गये। १७८१०में सिष्टाउयामें पष्ट्रियाक साथ मन्धि तान चतुर्थ मुस्ताफाको मार डाला पोर पाप भो जिनसे. स्थापन हुई, जिसमें त रुष्कने अपना खोया हुषा राज्य रियोको गुम्मे में पड़ कर मृत्यु को प्रात्र एए । सुखतान पुनः पाया। १७०२ ई० को जेसोमें कसियाके माध हितोय महमुदने उसमानका वंगधर बतला कर बाप सन्धि हुई। तुरुष्कन क्रिमियाका दावा छोड़ दिया घोर पाया। उन्होंने भी अपना सिंहासन निकडक करनेके निष्टर नदो दोनों राज्यों के सोमारूप में निर्बारित हुई। लिये चतर्थ मस्तापावे शिपवबो मरवा डाला। मि. इस समय बोनापार्टी ने मिश्र जीत कर फ्रांसके साथ मेरियों को इच्छानुसार उन्होंने संसार-प्रथा परित्याग युद्ध ठान दियाः किन्त रंगल पने मित्र उचार कर को। ये सडक साथ सन्धि करके मिया साध १८०३१०में तुरुकको प्रदान किया। १८०० में लड़ने लगे। इस ममय बहतसे पधोनराज्य साधीन हो मुलतान सलीमने रूमिया, नेपसस पोर गले डके गये। पता उनको वाध्य हो कर १०१२ को करिष्टमें माय सन्धि कर पायोनोय होपावलो दखल की। सुल: मियाक साथ सन्धि करनो पड़ो। प्रथ पौर सारविमाके सान सलोमने उस समय यरोपोय सैन्य गठन तथा पूर्वस्व ममस्त देश, चिलदिय के कुछ पंश मौरदानियूब- दोवानी परिवर्तित को। इसमें रासेण्ड चौर रूसिया का मुनामा कमियाको देने पड़े। पोकोने स समय के बीच प्रतिवन्दिता उत्पन हुई। प्रांसीसोको उत्ते. स्वाधोनता अवलम्बन कर तुरुष्काको सम्पर्ष पसे अमासे इस पौर तुरुम्कामे १८०५०को लड़ाई लड़ी। लिहीन बना दिया। बहुत से य रोपीय राज्य प्रोसके बङ्गाली पडने तुककको सहायता को। रूस दानियुबके पक्ष मा गये । समग, फ्रांस, पौर मियाको सेनाने किनारे अग्रमर होने लगा । जेनोरि और मुफ तिने मिल मिख कर १८२०१०को नाभारिपोक य प तुरुवाको कर सुलतानको राज्यच्युत और कैद किया। सेनाको पच्छी तरह सास-नासर डाला। इस युपी