पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/६८९

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


स सभामै सुयोग खोज रहे थे : किन्तु इस समय बुद्धिमान् । का पोछा किया। मिरगयो नामक स्थानमंस-सेना सुलताननं निरपेक्ष पारन प्रचार कर ईसा प्रजाको पराजित हुई। इस देश में पष्ट्रियाको सेनाने तुरुष्का के शान्त किया। यथार्थ में अभी भो य रोपोयगण प्रबदुल अधिकारभुता जो सब देश दखल किये थे, उन्हें भी मेजिदको समुनस-प्रतिको बड़ाई किया करते हैं। प्रभो छोड़ दिये। इसो शैचमें पंज पोर प्रोमोसोके १८४८ में हजारोके प्रधान राजपुरुषो ने पा कर सुल- जजोजहाज कणसागरमें प्रवेश कर पोसा नगरको तानका पाश्रय ग्रहण किया। अष्ट्रिया पोर कम-सम्राट: जपर गोला बरमाने लगे। इसके जङ्गीजामने ने उन्हें कड़वा देने का अनुरोध किया। किन्तु मुल- पा कर शिवास्तुयोल बन्दरमें पाश्रय लिया था। तानने उनके प्रस्तावको उपेक्षा करते हुए कहा, "पावित १८५४ ई०को १४वों सितम्बरको मासन सेण्ड-पावंड मनुष्यों को रक्षा करना हो हम लोगोंका जातोयधर्म और लर्ड रागलेनके अधीनमें ग्रेजो पोर प्रांसोसो है। प्राण विसर्जन करते हुए भी हम लोग जातोय सेना क्रिमिया शहरको उतरी। इस समय जो भीषण धर्म की रक्षा किया करते हैं." युद्ध हुए थे, वे हो य रोपीय इतिहासमें 'क्रिमिया-समो ___पहने रूमके साथ तुरुष्कको कई एक सन्धि हुई नामसे प्रसिद्ध है। थों सहो, किन्तु उनमें कसका ही स्वार्थ भरपूर था। २. वो सितम्बरको पासमामें युद्ध एपा । मार रूस बराबर तुरुष्कके अपर सौव दृष्टि रखा करते थे। मेजिकोफके प्रधान रूसको सेमा सम्म पर्ण रूपसे परा- .. तुरुष्का के प्रोम-समाजभुक्ता ईसाइयों ने सुलतानके जिन हई । बहुत शोध से अग्रेशो और फ्रांसोसी सेना- विरुद्ध कम-राजके. निकट अभियोग किया। जारने ने पा कर बालालावा पोर कामिस बन्दर अधिकार पूर्व मन्धिपत्रक विरुद्ध सब हाल जान कर तुरुष्कक किया। २६वौं सितम्बरको वे शिवास्तपोलका दक्षि- भाभ्यन्तरिक व्यापारमें हस्तक्षेप किया। इससैन्यने यश दखल कर बैठे। इस समय कठिन योससे शिवा. पा कर मलदेविया और वालामिया अधिकार कर पोलके जपर पग्रेजो पौर फ्रांसोमी सेनाको तुरवा. लिया। तब सुलतान भो निश्चिन्त रहन सके । उनके राज्यके बचानमें जो कष्ट भुगतना पड़ा था, वह पथः मेनापति उमार पासान बलकान और दानियव नदी- नोय है। भीतर पोर बाहर महावमशाखो बसन्य तोरस्थ दुर्ग अधिकार कर लिये। इधर फ्रांसोसो पौर उन्हें घेरी हुई है, इस प्रणमा गौरव बचाने के लिये प्राण. अंग्रेज-नौ-सेनाने वेमिक उपमागरमें पा कर मगर पहसे चेष्टा कर रहा है, किन्तु उनके सामने सही डाला। अता बर मा में तुरुष्कने रूमके विरुष य.. भर फ्रांमोसो भोर अंग्रेजो सेनाने तुर्कमेनाको सहा- घोषणा कर दी पोर अग्रेज तथा फ्रांसीसियों को मदद यतासे रूमका वह विपुल गौरव महमें मिला दिया। देनेके लिये बुलाया। उनका काम यथार्थ में अत्यन्त प्रशसमोय था। इस समय वालामिया में दोनों दलमें कई बार यह हुए, प्रति तुक सेनापति उमार पाशाने भो जिस तरह बुद्धिमत्ता यु में हो रूमसैन्य हारने लगो। नवम्बर माममें रूमकी पोर विचक्षणताका परिचय देते हुए कमसन्धको बार- नो-सेनाने शिशस्तपोल बन्दरमे निकल कर मिहुपके बार पराजय किया था, वह तुरुका पक्षम महागौरव. रास्ते पर तुर्कीक-यह जनराजों को नष्ट किया । का विषय था; इसमें सनिक भो सन्द नहीं है। पन्तमें पोछे १८५४ ई.में रुसस न्यने दानिय ब नदो पार फ्रांसको राजधानी पेरिस नगरमें सन्धि हो जानेमे सब कर दोबरुचाके दुर्गा पर पाक्रमण किया। इस समय गड़बड़ो मर-मिट गई। तुरुष्कपतिने मसदेविया गले ण्ड श्री. फ्रांसमें लड़ाई छिड़ो हुई थी। १५ जून- और अष्णनगरको उपकूलवर्ती नदो के मुहाने तक समस्त को सगंण असीम चेष्टा और बहुतसी सन्ध नष्ट करने देश तथा निस्तार और दानियुच नदोके उत्तरांश कई एक के बाद सिलिष्ट्रिया पर पाक्रमण कर लौटे पा रहे थे। प्रदेश लौटा पाये। तुर्की हेलाने भो दानिय ब पार कर इससन्य- १८६१९०में अबदुःख पोज सिंहासन पर बैठे। Vol. Ix. 170