पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/७६५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


पर । जिनमते तोन तो रसके लिए एक तोतरा ( वि.) तोता रणे । दूध दही रणने लिए चौर व एक मानके लिये तोतरामा ( R) तमना रेगे।। सरवर दूरसे बाहामोरंग दोख पड़ते। हरक तोतला (पिसष्टमेवानिवास मी तुतमा घर १. फुट पा. १५ फुट लम्बा पोर पुट वोडा वर बोलता हो।सिम बाबा । रहा। सभी.परासी बने होते चोर उन मोबर तोतम् (0. ब.) बायवाद का सेप दिया संता है। प्रथा भीतरो भाग १ २ख, तम।। समाबतक चोडा होगा। बीच में हो पाटकंचा तोता (फा पु०) एक प्रसिपीस परीवारा महोबा चाकरमना जिस पर हरिष वा मनी चमड़ा पोर चोच लास होतोसी मोटो होती। • पथवा चटाई विका कर मोते। हमके पचिमको भोर पोर पैरोमें दो, पानिपौर मेरदो-HARE . भही पौर महीने चारों तरफ पसमय रहता है। दूपमा लिया होतो। यह मनुषोंको बोलीभापकरण घर माते वहा होता है। यंग पर टटियामे दो बग- पछी तरहकर मकालो पोतो बस मोठी बर भागोम विभत रहय। एक भागमें दूध धो पादि होती है, सोखिदेखोग इसे अपनी पार रखे जाते और दूमरेमें उन लोगोंकेटदेवताको पूजा और छोटे मोटे पद तथा "राम राम' शिवतियारसी परभे, जिनमें अधिकांश वंजा पोरसार तोड़ा ( पु.) सोने चांदो पादिको, मिकरी । यह मांस भौतितोतको सम्बाद सामने काम तीन माच्छदार पोर चोड़ो होतो है। यह तोड़ा पाभूषषको पुरको होतो कुछ ऐसे भो तावर जिवापारात तरस पहनीके काममें पाता है। इसके को भेद है। वह परिवार और मदाकारगाय एकाचा कोई कोर से पैरों, हाथों या गले में पहनते। कभी होता। परिवामिव प्रकार तो मिलती भाभी सिपाही लोग अपनी पगड़ो पर चारों पोर भी सरामन, कातिकमरो, बावातूपा तोड़ा पिट लेत.। २षये रखनेको टाट पादिनी मालिका जिस तर दूसर दूसरे पास मची पी घेली तटकनारा कामदारको नदोके माम माशिवाके यहां भाम जाने पर फिर लोटम पादि पर बाल मजमा होनेके कारण बन जाय तोटमाने पर फिर कामो पकी पाचनमाक्षिक ५ घाटा, कमी, टोटा। बरसो अदिका बा. पास नहीं मानेपलिये तोता सतायी बताता नाचका एक कड़ा। लबो सम्बी साड़ी, रिक्षा बन्दबाबा बोला। . .... ८ पासोता. पलोता । १. एक प्रकारको साफ चोनी को तोताराम ( फा. पु.) तोते की तरह पहिर प्रायः मिसोको तरह होती है और सससे थोखा बनाते बाबा, वह जोर-शरीवत हो। . . . । ११वा खोहा जिसके चकमक पर मारनेसे शाग तोताचमी (कायो.) परीवतो, वकार। निकालता है। १२.तोन बार तक न्याईड में। तोताराम-दो तवा पंजीके एक प्रति बिन्। तोड़ाई (को०) तुर्ग देखो। इनका जन्म संवत् १८०४में कायस्कुल पाया। तोड़ाना ( नि) तुगमा देखो । कुछ दिन सरकारी नौकरी पारी मीन.पसीगढ़में पका तोड़ी (सो ) तक पर गोगा डोष । १ तौल , 'त जमाईपासतमासासी प्रामदनी होती थी। साधन धान्यभेद, एक प्रकारका धान। २ वसन्तरागकी। सोइसका परम पोर.न्यास मध्यम है। होने हर दिन 'भारतबन्धु' नामक सामाजिक पन भी तोडीमा निकासाचा टोकतान्त नामक नाटकमय नीषा तोतई ( वि.) जिसका रंग तोतक मा .बनानापा । 'पाप बास्मोनीय रामायाराम- .धानों: समावरमामवाकया होगा Voi. Lx.180