पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष पंचदश भाग.djvu/१३०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


१२४ फ्रान्स तेल, साबुन, बिट् चीनी, रंग, कागज. मुद्रायन्त्र, रेशम, ! मेरेभीके पौत्र क्लोभिसके राज्यकालसे ही फ्रान्सका प्रकृत पशम, कपास, लिनेन, कार्पट, शाल और फीता प्रभृति इतिहास लिपिवद्ध हुआ। ४८१ ई०में क्लोभिस राज- द्रव्य वाणिज्यके लिये बहुतायतसे प्रस्तुत होते हैं। गद्दी पर बैठे। इस समय भिसिगथ, बर्ग ण्डियन, रोमक लियन्स, टर, पारी, निसमे, अभिग्नो, आनोने, सेण्ट- और जर्मन आदि जातियां गालराज्यका अधिकार लेनेके पटिन आदि शहरोंमें रेशमका बढ़िया वस्त्र और फीता लिपे आपसमें झगड़ने लगीं। परस्परके विच्छेदसे बनता है। रायेन, सेण्ट, कोएनटिन, ट्रेय, लिले आदि शत्रुदल बलहीन हो रहा है, यह देख कर क्लोभिसने शहरों में सूती कपड़े का विस्तृत कारबार है। राइमस, ४८६ ई०में सोइसोंके युद्धमें रोमकोंको परास्त किया। लाभर, आमेन, पारी आदि नगरोंमें पशमीने, बनात और ४९६ ई०में टालविया (Tollhin )के युद्ध में अस्लीम वीरता कार्पेट तथा स्याभर, लिमोगे और पारी आदि नगरीमें दिखा कर उन्होंने जर्मनोंको वशीभूत कर लिया था। कांच तथा पोसिलेनके बरतन तैयार होते हैं। भोवली विजयके बाद उन्होंने भिसिगथजातिको सेप्टि- बोर्दो, मार्सेल, नैएट, हाभर दि ग्रेस, कैले, वौलो, मानिया प्रदेशमें अवरुद्ध रखा। इसके बाद उनके सेण्टमालो, ला ओरियेण्ट, वयने, उनकाकै, तिपे, रोकेल वीरत्व प्रभावसे वर्गण्डीवासी वीर्य हीन हो पड़े। आदि बन्दर ही प्रधान वाणिज्यस्थान हैं। शराब बनाना आखिर ५३४ ई०में उन्हींके पुत्रसे पराजित हो ये लोग ही यहांका प्रधान व्यवसाय है। जगलमें सब जगह फरासी मोराभिनजियनवशका आश्रय लेनेको बाध्य हुए। भद्यकी विशेष सुख्याति है। क्लोभिसको मृत्युफे बाद तदधिकृत राज्य थिएरी, क्लोडो- उपनिवेश । आफ्रिका महादेशमें- अलजिरिया, मीर, चाइल्डवार्ट और क्लोटेयर नामक उनके चार पुत्रों में सेनिगाल, रुमोद्वीपपुञ्ज, सेण्टमेरी, नोसो-बे और मयोटे। बाँटे गये। किन्तु ५५८ ई०में क्लोटेयरके उद्यमसे पैतृक एशियामें पूर्व भारतीय अधिकार और कोचीन चीन। राज्य एक साथ मिला दिये गये। पीछे आपसमें अन्त- अमेरिकामें -गायो, गोआडालोप मार्टिनिक, सेण्टपियारे विवाद हो जानेसे उनके एक दलने अष्ट्रेलिया, न्युष्ट्रिया, और मिकुइलन। पलिनेशियामें-न्यु कालिडोनिया, वर्गण्डी और आकुइटनमें जा कर स्वतन्त्र राज्य बसाया। मार्कोपसस और लएलटी द्वीपपुञ्ज है। | उक्त चार राज्यों से प्रथम दो विशेष बलशाली हो गये ____ फरासियोंके जो सब वैदेशिक अधिकार हैं, उनका थे। ६८७ ई०में अष्ट्रेलियाने न्युद्रियाका कत्र्तृत्व क्षेत्रफल प्रायः ४६३८२७ वर्गमील है । १८४८ ई०की २४वों ग्रहण किया और दोनोंके मिल जानेसे एक स्वतन्त्र प्रजा- फरवरीको गवर्मेण्ट डिक्रीके अनुसार उपनिवेशोंसे दास- तन्त्रकी सृष्टि हुई । हरिष्टलगण इ.यूककी उपाधि धारण विक्रय-प्रथा उठ गई। कर इन प्रदेशोंका शासन करते थे। धीरे धीरे वे ही रेलाय आर टेलिग्राफ । वाणिज्यकी सुविधाके लिये लोग न्युष्ट्रियन राजवंशके सर्वमय कर्ता हो उठे। फ्रान्सराज्यमें प्रायः ३१ हजार मील रेलपथ और ३५ बगैण्डी राज गण उनसे परास्त हुए थे। आकुइटेन- हजार मील टेलिग्रामको तार फैलाया गया है। राज्य मूर जातिसे लूट जाने के बाद ७३२ ई में चालस् इतिहास ।-रोमक अधिकारमें फरासी राज्य गाल मर्टल कत्तुं क अधीनतापाशसे मुक्त हुआ। इसके २० ( (dunl) नामसे प्रसिद्ध था। जगद्विख्यात रोमकसेना- वर्ष बाद मेरोभिनजियन राजवशके शेष और कालीभिन- पति जुलियस सीजरने इस देशमें अपना शासन फैलाया जियन वंशके श्य राजाने ३य चाइल्डरिकको राज्यच्युत था। किन्तु उस समय गाल राज्यमें कोई उन्नति न करके पेपिन लि ब्रेक राज्य पर अधिकार किया। दिखाई दी। इङ्गलैण्डकी तरह यह भी एक तरहसे हीन- पिपेने अपने बाहुबलसे ब्रिटिनी छोड़ कर और सारे फ्रान्स प्रभ हो उठा। रोमक जातिका गौरव रवि जब अस्त पर अपना आधिपत्य फैला लिया था । इटली तक उनका हुआ, तब धीरे धीरे यूरोपके विभिन्न राजाओंने अपना धाक जम गई थी। उन्होंने लम्बादराज आष्टलफको अपना सिर उाया । मेराभिनजियन राजवंशके प्रतिष्ठाता पोप ष्टिफेनकी प्रधानता स्वीकार करनेको बाध्य किया।