पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष पंचदश भाग.djvu/१५३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


बङ्किपचन्द्रचट्टोपाध्याय-बछरावान १४७ अक्षा० १४५५ उ० और देशा०७५१६ पूके मध्य अव- . बचाव (हिं० पु०) रक्षा, लाण । स्थित है । जनसंख्या छः हजारसे ऊपर है। यहां एक भग्न वचिया (हिं॰ स्त्री० ) कसीदेके काममें छोटी छोटी दुर्ग और दो मन्दिर हैं। प्रति मंगलवारको हाट लगती है वृटियां। जिसमें मोटा कपड़ा, कम्बल, तेल आर बरतन बिकनेके बचुआ ( हि० पु. ) सिध, उड़ीसा, बङ्गाल और आसाम- लिये आते हैं।०७१ ईमें गडवंशके उदयादित्य नामक , की नदियोंमें मिलनेवाली एक प्रकारकी मछली। साधा. व्यक्ति यहांका शासन करते थे। १४०६ ई०में बामनी रणतः वह वालिश्त भर लबी होती है, पर इस जातिकी सुलतान फिरोज शाहने शहर में घेरा डाला। १७७६ ई० : कोई कोई बड़ी मछली हाथ डेढ़ हाथ तक भी लम्बी में यह हैदरअलोके हाथ लगा। १८०२ में बमीनकी होती है। सन्धिके अनुसार पेशवाने इसे टिश गवमें एटको बचून ( हि पु० ) भालूका बथा। समर्पण किया। यहां रङ्गस्वामीका एक सुन्दर जैन मन्दिर बचो ( हिं० पु० ) काश्मीर, सिंध और काबुलमें मिलने है जिसमें अनेक शिलालिपियां खोदित हैं । शहरमें चार · वाली एक बारहमासी लता। इसको जड़से मजीठकी स्कल हैं जिनमेंसे दो बालिकाओं के लिये हैं। तरहका रंग निकलता है। यह लता बीज और जड. बडिमचन्द्रचट्टोपाध्याय अन्तस्थ 'व' देखो। दोनोंसे उत्पन्न होती है। तीन वर्ष से ले कर पांच वर्ष बङ्गस्- एक मुसलमान-वंश। ये लोग स्वभावतः ही तकमें इसकी जड, पक कर तैयार होती है। इसकी निरीह होते हैं। फर्रुखाबाद के नवाब-वंश इसी वङ्गवंशके पत्तियां पशु और विशेषतः ऊँट बड़े चायसे खाते हैं। मुसलमान हैं। बच्चा ( फा० पु० ) १ किसी प्राणीका नवजात भीर अस- बच ( हिं० स्त्री० ) एक प्रकारका पौधा । वगा देखो हाय शिशु। २ बालक, लडका। बचकाना (हिं० वि०) १ बच्चोंके योग्य, बच्चोंके लायक। वश्चाकश ( फा० वि० ) जो बहुत व जनती हो । २ बच्चोंका सा, थोड़ी अवस्थाका । बच्चादान ( फा० पु. ) गर्भाशय, कोख । बचत ( हिं० स्त्री० ) १ बचनेका भाव, बचाव । २ लाभ, वश्ची ( हि स्त्री० ) १ वह छोटी घोडिया जो छत वा मुनाफा। २ वह भाग जो व्यय होनेसे बच रहे, शेष। छाजनमें बड़ी घोडि.याके नीचे लगाई जाती है। २ वह बचनविदग्धा (सं० स्त्री० ) वचनविदग्धा देखो। वाल जो होंठके नीचे वीचमें जमता है। ३ बच्चा देखो। बचना (हि.कि.) १ कष्ट या विपत्ति आदिसे अलग वच्छ ( हिं० पु.) १ बच्चा, बेटा ! २ गायका बच्चा, रहना, रक्षित रहना। २ पीछे या अलग होना, हटना। बछड़ा। ३ दूर रहना, परहेज करना । ४ किमो बुरी बातसे अलग वच्छनाग ( हि पु० ) बछनाग देखो। रहना । ५ खरचने या काममें आने पर शेष रह जाना, वच्छा ( हि पु० ) १ गायका बच्चा, बछड़ा। किसी बाकी रहना। ६ किसीके अन्तर्गत न आना, छुट जाना। जानवरका बचा। ७ कहना। बछड़ा (हिं० पु. ) गायका बच्चा। बचपन (हिं० पु०) १ बाल्यावस्था, लड़कपन । २ बच्चा बछनाग ( हिं० पु. ) एक स्थावर विष। यह नेपालके होनेका भाव। पहाड़ोंमें होनेवाला पौधेकी जड़ है । वह देखनमें हिरनके बचाना (हि कि०) १ रक्षा देना, आपत्ति या कष्ट आदिमें सोंगके आकारका होता है। विशेष विवरण बरसनाभ न पड़ने देना। २ पीछे करना, हटाना। ३ ऐसे रोगसे शब्दमे देखो। मुक्त करना जिसमें मरनेकी आशका हो । ४ प्रभावित न बछरा ( हिं० पु. ) बछड़ा देखो। होने देना, अलग रखना । ५ छिपाना, चुराना । ६ किसी बछरावान- १ रायबरेली जिलेके अन्तर्गत एक परगना। बुरी बातसे अलग रखना, दूर रखना। ७ व्यय न होने भूपरिमाण ६४ वर्ग मील है । १५वीं शनान्दोके प्रारम्भमें देना। मुसलमान सेनापति सैयद सलार मसाउद और बाई