पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष पंचदश भाग.djvu/१६६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


१६० बतचल-बतौर इस कारण यह न तेज दौड़ सकती है न उड़ सकती है। वसाया। सम्राट अकबरशाहने यह सम्पत्ति शमशेर खाँ- तालों और जलाशयोंमें यह मछली आदि पकड़ कर को जागीरस्वरूप दे दी। शमशेर खाँके यजसे इस खाती हैं। | नगरने नाना अट्टालिकाओंसे सुशोभित हो अपूर्वश्रीको बतचल ( हि वि० ) वकवादी, बक्की । धारण किया था। सिखलोगोंके अधिकारमें यह स्थान बतबढ़ाव (हिं पु०) १ व्यर्थ बात बढ़ाना, झगड़ा बखेड़ा पहले रामगड़िया और पीछे कनाइया मिसलके हाथ बढ़ाना। लगा। रणजित्के अभ्युदय तक यह रामगडि पोंके बतरस (हि पु०) वातचीतका आनन्द, बातोंका अधिकारमें था। पंजाबके अंगरेजी शासनमें आनेके मजा। बाद यह नगर कुछ समय तक उक्त किलेका सदर रहा। बतरान (हिं० स्त्री० ) बातचीत । पीछे वह उठ कर गुरुदासपुर नगर चला गया। शम- बतराना (हिं० स्त्री०) बातचीत करना। शेर खाँका समाधि-मन्दिर और रणजित्के पुत्र शेरसिंह- बतलाना (हि.क्रि.) बनाना देखो। निर्मित अनारकली नामका भवन देखने योग्य है। इसमें बतवन्हा ( हि पु० ) एक प्रकारकी नाव । इसमें लोहेके : अभी 'बरिंग' हाई-स्कूल लगता है। शहर में रेशम, ताम्र काँटे नहीं लगाए जाते। यह केवल बेंतसे बांधी जाती और चर्मनिर्मित द्रष्यादिका विस्तृत कारबार चलता है। है। इस प्रकारकी नाव चट्टप्रामकी ओर चलाई पशमीने शाल भी प्रस्तुत होते हैं। उक्त हाई-स्कूलके जाती है। सिवा, एक ऐङ्गलो वर्नाक्युलर हाई-स्कूल और दो ऐङ्गलो- बताना ( हि क्रि०) १ अभिश करना, जताना। २ वर्नाक्युलर मिडिल स्कूल हैं। निर्देश करना, दिखाना। ३ समझाना, बुझाना। ४ बताशा (हिपु० ) वतासा देखो। नाचने गाने में हाथ उठा कर भाव प्रकट करना, भाव बतास ( हिं० स्त्री० ) १ गठिया, वातका रोग। २ वायु, बताना। ५ किसी कार्यमें नियुक्त करना, कोई काम हवा। धंधा निकालना। ६ दण्ड देकर ठीक रास्ते पर लाना. बतासफेनी ( हि स्त्री० ) टिकियाके आकारको एक मार पीट कर दुरुस्त करना। मिठाई। बताना (हिं पु० ) १ हाथका कड़ा । २ फटी पुरानी बतासा (हिं० स्त्री० ) १ एक प्रकारकी मिठाई । यह चीनी पगड़ी जो नीचे रहती है और जिसके ऊपर अच्छी पगड़ी की चाशनीको टपका कर बनाई जाती है। टपकने पर बांधी जाती है। पानी बुलबुलेसे बनते जाते हैं जो जमने पर खोखले और बताला--१ पञ्जाबके गुरुदासपुर जिलेकी तहसील। यह हलके होते हैं तथा पानी में बहुत जल्दी घुलते हैं। २ अक्षा० ३१३५ से ३२४ उ० तथा देशा० ७४५२ से अनारकी तरह छूटनेवाली एक प्रकारकी आतशबाजी । ७५३४ पू०के मध्य अवस्थित है। भूपरिमाण ४७६ ! इसमें बड़े बड़े फूलसे गिरते हैं। ३ बुलबुला, बुद्- वर्ग मील और जनसंख्या तीन लाखसे ऊपर है। बतिया (हि.पु.) थोड़े दिनोंका लगा हुआ कचा छोटा इसमें श्रीगोविन्दपुर, डेरा नानक और बताला शहर तथा फल। ४७८ प्राम लगते हैं। बतियाना (हिं. क्रि०) बातचीत करना। २ उक्त तहसीलका एक शहर। यह अक्षा० ३० बतियार ( हि स्त्री०) बातचीत । ४६ उ० और देशा०७५१२ पू० गुरुदासपुर शहरसे २० बतू ( हि पु० ) कलावत्त देखो। मीलकी दूरी पर अवस्थित है। जनसंख्या तोस हजार बतौतकुती (हि० स्त्री०) कानमें बातचीत करनेकी नकल के करीब है। बहलोल लोदीके शासनकालमें लाहोर जो बंदर करते हैं। के शासनकर्त्ताने तातार खाँसे जो जमीन प्राप्त की, उसी- बतौर ( क्रि०वि०)१ रीतिसे, तरीके पर। २ के ऊपर भटिराजपूत रायरामदेवने १४६५ ई०में यह नगर सद्श, मानिंद ।