पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष पंचदश भाग.djvu/४८०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


वृहद्धल---गृहन्निवाणतन्त्र धृहद्धल । म क्लो० ) बृहत् हलं यस्य महालाङ्गल, बड़ा । षहद्रेणु ( स० त्रि०) बहु पांशुयुक्त । हल । पर्याय---हलि। बृहद्रोम ( स० क्लो० ) रोमकसिदान्त-वर्णित जनपदभेद । बृहद्वला ( स० पु० ) १ महाबला। २ सफेद लोध । ३ : ब,हद्वत् (स० पु०) बहत वात्साम तदस्वास्ति स्तोसतवा लज्जायन्ती, लजालू। मतुप, मस्य व। १ व.इत्सामस्तोलस्तुत्य इन्द, ब.हत्- बृहद्वीज (स० पु०) बृहत् बीजं यस्य । आम्रातक, अमड़ा। साम स्त्रोत्र द्वारा स्तवनीय। २ तत्साध्य यह । स्त्रीयां बृहत हस्पति (सपु०) धर्मशास्त्रभेद । ङोप्। ३ नदीमेन। . . बृहत लन् ! स० पु०) आङ्गिरस ऋषिभेद। वृह यस् ( स० लि.) बहु शक्तिशाली, पराक्रमी । २ (भारत वनप० २३१ अ०) । अधिरुवयस्क, ज्यादा उमरका। बृहनहारिका ( स० स्त्री० ) दुर्गाका एक नाम । बहवर्ण ( स० पु. ) स्वर्णमाक्षिक, सोनामक्खो । बाहद्भण्डी ( स० स्त्री० ) वायमाणा लता। बहदुलक ( म०पु० ) १ पट्टिका लोध्र, मफेर लोध । २ बद्भय (म० पु०) सावर्णि मनुके एक पुलका नाम। । सप्तवर्णवृक्ष। (मार्कण्डेयपु० ६५ अ.) बहवली ( स० स्त्री० ) कारबली, करेला । बृहदानु ( सं० पु० ) हन् भानुरश्मिर्यस्य । १ अग्नि । बरमिष्ट (म.पु. ) धर्मशास्त्रभेद । ( भारत ३१२२०८ )२ चित्रक वृक्ष । ३ सत्यभामाके पक बहसु ( म पु०) वेदोक्त अनभेद । पुलका नाम । ( भाग० १६१।१०) ४ पृथुलाक्षकं एक बहतात ( सं० पु० ) देवधाग्य ।। पुत्रका नाम । (भाग० ६।२३।११) ५ आङ्गिरस इन्द्रमावर्णि बरछादिन ( स० त्रि०) अहङ्कारी, घमण्डी। मन्वन्तरमे हरिको एक अवस्थाका नाम। इन्द्रसावर्णि · बहतारुणी (सं० सी०) बहती वारुणी कर्मधा० । १ महेन्द्र मन्वन्तरमें भगवान् हरिने वितानाके गर्भ और सत्रायणके वारुणीलता। २राखालक्षण । औरससे जन्मग्रहण किया था। इनका नाम बद्भानु वृहद्वासिष्ठ (सं० क्ली०) १ इस नामके एक शास्त्र २ धर्म- रखा गया। (भाग० ८।१३।३१) . शास्त्र। (त्रि०) ७ बृहदश्मिविशिष्ट, अच्छो रोशनवाला। व हद्विष्णु ( म०पु० ) धर्मशास्त्रभेद । बृहन्द्रास (सं० पु०) १ ब्रह्मपौत्रभेद । सोया टाप । २ सूर्यको व हवास ( स० पु० धर्मशास्त्रभेद । कन्या, अग्नि भानुको पत्नी। बहनत ( स० लि. ) महाम्रन पालनकारी। बहन्नम्मी म स्त्रो०) गन्धद्रव्यभेद । वृहद्रण (सं० पु०) इक्ष्वाकुवंशके भावि नृपभेद । (भाग० १२6 ) . वह. ल. म पु०) वहन्-नलः। १ महापोटगल, बड़ा नरकट। २ अजुनका एक नाम । ३ बाई, वाह । बहद्रथ ( स० पु० ) बहन रथो यस्य। १ इन्द्र । २ यक्ष- बृहन्नला ( स स्त्रो०) अजुनका उस समयका नाम पाल । ३ सामवेदका अंश । ४ मन्त्रविशेष। ५ति म

जिस समय ये अज्ञातवासमें स्पीके घेशमें रह कर राजा

पुन। ६ शतधन्वपुल। ७ देवरात पुस । ८ तिमिर ! विरारको कन्याको नाच गान सिखाते थे। अर्जुन देखो। राजपुन । ६ पृथुलाक्षके पुल । १० मगधराजभेद । (त्रि०) नहन्नारदीयपुराण (स क्लो' पुराणभेद । इसकी गिनती ११ प्रभूतरथ जिसके अनेक रथ हों। उपपुराणमें की गई है। पुराण देखो। ब,हद्रयि ( सं० लि, बहु धनयुक्त, धनवान् । बहन्नारायण (स.पु.) एक उपनिषदका नाम जिसे ब,हद्रवस् (सं० लि.) महाशब्दकारी, जोरसे आवाज याज्ञको उपनिषद् भी कहते हैं। करनेवाला। बृहन्नारायणोपनिषद् ( स० स्त्री० ) उपनिषाद। बहद्राधिन ( स० पु० ) क्ष द्रोलूक, छोटा उल्लपक्षी। बहन्निम्व ( सपु. ) महानिम्न । ब हद्रि ( स० वि०) महाधन, धनी। बहन्निवाणतन्त्र ( संलो०) एक तम्स जो महानिर्वाण वृहद प ( म पु०) मरुद्रणभेद । ता से भिन्न है। तन्त्र देखो।