पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष पंचदश भाग.djvu/६१६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


६१. ब्रह्मपुरी-ब्रह्ममय वहां विचारालय, विद्यालय और पुलिसावास बनाया ब्रह्मवेध्या (सं० स्त्री० ) मदीभेद । गया है। यहां बढ़िया सूतीके कपड़े तथा पीतल और ब्रह्मनु वाण (स० पु०) आत्मानं ब्रह्माणं व्रते ब्र-शानच् । तांबेके बरतन तैयार होते हैं। वह जो अपनेको ब्राह्मण बतलाता हो। कर्णने अपनेको ब्रह्मपुरी (सं० स्त्री० ) ब्रह्मणः पुरी । १ विधाताका नाम । ब्राह्मण बतला कर परशुरामसे अस्त्र-शाल सीखा था ! २ काशीधाम । (भारत ५६१ भ०) २ ब्राह्मणव्र, अपकृष्ट ब्राह्मण । ब्रह्मपुरुष ( स० पु.) ब्रह्मणः पुरुष इव। ब्रह्मपावक | | ब्रह्मभद्रा ( स० स्त्री० ) ब्रह्मणि भद्रा ७त्तत् । विप्रहितार्थ द्वारपालरूप चक्षु, वाक्, मन और प्राणादि पञ्च ब्रह्म लायमणोषधीभेद । पुरुष। ये सब स्वर्गलोकके द्वारपाल स्वरूप हैं। ब्रह्मभवन (सं० ली० ) ब्रह्माका वासस्थान । ब्रह्मलोक । प्रामपुरोगव (सं० वि०) पुरोगत ब्रह्म । ब्रह्मभाग (स० पु०) ब्रह्मणो भागः । ब्रह्मरूप ऋत्विकके हर- प्रल्हापुरोहित ( स० पु० ) ब्रह्म वृहस्पतिः पुरोहितो यस्य ।। णीय यज्ञद्रव्यका भागभेद । देवताओंके पुरोहित बृहस्पति । ब्रह्मभाव (सं० पु०) ब्रह्मणो भावः । १ ब्राह्म। २ ब्रह्मका ब्रह्मपूत (सं० वि०) ब्रह्मणा पूतः । ब्रह्म द्वारा पवित्र । तप स्यादि द्वारा पूतदेह । (अथर्व १३॥१॥३६) ब्रह्मभावन (सत्रि०) ब्रह्म भावयति उपदिशति ब्रह्म-भू- ब्रह्मप्रसूत (स लि०) ब्रह्मणा प्रसूतः। १ ब्रह्मजात जगत्। णिच् ण्वुल। ब्रह्मोपदेशक । ब्रह्मसे इस जगत्की उत्पत्ति हुई है । (क्ली०) २ ब्राह्मणा- ब्रह्मभिद् (सं० त्रि०) ब्रह्मभेदक, जो एक ब्रह्मके विविध- रब्ध कर्म। भेदकी कल्पना करता हो। ब्राह्मप्रिय (स० वि०) ब्रह्मध्याननिरत, जो सदा ब्रह्मचिन्ता- | ब्रह्मभुवन (सं० क्ली० ) ब्रह्मलोक । में निमग्न रहते हों। | ब्रह्मभूति ( स० स्त्री०) ब्रह्मणो भूतिरङ्गसम्पदिव भूति- ब्राह्मणी (स नि०) ब्रह्मणा प्रीणाति प्री-किप। १ सोम- यस्याः। १ सन्ध्या। (त्रि० ) २ ब्रह्मजातमात्र । लक्षण अन्न द्वारा प्रीत । २ स्तोत्रप्रिय । ब्रह्मभूमिजा ( स० स्त्री०) ब्रह्मभूमेर्जायते या, ब्राह्म-भूमि- ब्रह्मफांस (हिं० स्त्री०) ब्रह्मपाश देखो। जन स्त्रियां टोप। सिहली। ब्रह्मबन्धु (संपु०) ब्रह्मणो बन्धुरिव। १ अधिक्षेप । २ ब्रह्मभूय (स० क्लो०) ब्रह्मणो भावः । १ ब्रह्मत्व । २ मोक्ष। निर्देश। ३ निन्दित ब्राह्मण, वह ब्राह्मण जो अपने कर्ममें | ३ ब्रह्मभाव । होन हो। ४ विप्रतुल्य भट्टादि। ब्रह्मभूयस् ( स० क्ली०) १ ब्रह्ममें लीनभाव । २ ब्रह्मध्यानमें एकाग्रता। ब्रह्मबध्या ( स० स्त्री० ) बध-भावे-क्यप , टाप, ब्रह्मणः ब्रह्मभूयत्व ( स० क्ली० ) १ ब्रह्मा भिन्न रूपमें अवस्थान । बध्या । ब्रह्महत्या, ब्राह्मणबध। ब्रह्मबल (सं.पु.) वह तेज वा शक्ति जो ब्राह्मणको तप २ ब्रह्मलीनता। ३ ब्राह्मणत्व । आदि द्वारा प्राप्त हो। ब्रह्मभोज (सं० पु०) ब्राह्मणोंको खिलानेका कर्म, ब्राह्मण भोजन। ब्राह्मबलि (स० पु० ) अथर्ववेदके मन्त्रविषर्तक गुरु- | ब्रह्मम गलदेवता (सं० स्त्री०) लक्ष्मीका नामान्तर । भेद । ब्रह्मविन्दु (स० पु० ) ब्रह्मणि वेदाध्ययमकाले विन्दुः। १ ब्रह्ममठ (सं० पु०) ब्राह्मणका विद्यामन्दिर । २ राजतरङ्गिनी- | वर्णित काश्मीरका एक विद्यामन्दिर । वेदाध्ययनकालमें मुखनिःसृत लाला, वह राल जो वेद | ब्रह्ममण्डुकी (सं० स्त्री० ) १ मञ्जिष्ठा, मंजीठ । २ मण्डूक- पढ़ते समय मुम्बसे टपकती है। यह राल दोषावह पणीं। ३ भारङ्गी। नहीं समझी जाती। | ब्रह्ममति (सपु०) बौद्धोमें एक प्रकारके उपदेषता। ब्रह्मवोज (सली० ) प्रसंशक वीजमन्त। १ ओम् । ब्रह्ममय ( स० वि०) ब्रह्मात्मकं ब्रह्मन्-मयट् । १ ब्रह्मा- २ वृक्षविशेष। . . त्मक, ब्रह्मस्वरूप। २ब्रह्मास्त्र।