पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/२८६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


माप्तानापिन-मापी १ मुहम थर पा र गिरा। मकदास जागा प्याति चारा भी पल T} इसके बाद सीन कम सामाविन ( म०नि०) लालाम्रायकारी, निमक मुह, निवारता दिनाकर 1 गुणम फरामी मेला गिरता हो। पुरका चि चुग दिया पार उगा शिक (मस्त्री०) महिष भै म। फगम IITH Unr h1 के अधीन युद्धको लालित ( म०नि०) १ जिमका लास किया गया हो , और यह जो पचय दिया था वह पगा प्यारा। जो पासपोसा गया हो । (का)' प्रशनीय है। • आहार अगस। समपुर ममत्र बार ६१७० १२ गरितपुर-युरूप्रदेशमा ए नगर और निगा दिमम्वरको। ४ को उमा पनिया फरामा मानपुरका अधिकारों Iren hpose 51 11m the Eist) परित्य (म का०) रसित प्यन् ।ग्नि होगा भार, । पधान मा हो पर भाग्न मोमा न मा धा। सुन्दरत, मरता। चे नोनित तके पाती थे। मारनामा र उमी रालिमा(मस्त्री .)रलाइ क्षरणता नुवा। म्यवामित नीतिमा अमरण पर वे भारतीय लारियार-मठियाघाइ निमागक मारावार प्रान्तस्य पराली सेनादमी क्षिा भोर सफारफायने नगे पर मामल राज्य पोर -RL 07 मा प्रम। ए। इस समय मदगामे नया अपनी निगमता यह मारनगर गोंडारे प ग स्टे17737 मार स ात्त हो । यहारिना और जाननारमा उत्तर पुरवा गास्थित है। स्मान सम्पत्ति दो परिसर दिया था। उनका नीरता और क्षाम्भिकता पट्टादार है। चे नवरेन सरकारको वि .२). गोश दिनो में 37 रन पथ पर ले गई यो। पर दिया करता भारतम अदा 7 रानीतिका रानी (R. गी०) TIMEnका मा- 77। माम्यान योदरिया नया गजा प्रजाया RREE ताने • आग, पन, पदम। ३ सीट जोन' के 35 से फराम के विमान में भारी गोटो मिर जाता है, मुरम्मी। जासयि प्रनार र धरासाप्रति लाग-प फरासो मानि II पूरा -IA IS किय । जिमा रनम नगेर गावित हो गाता? 17 टेण्डर था। फरासी राजाधिरत भारतीय ऐन » Rभा 3 17 माहाणदोन ना प्रदेश प्रधान सेनापति हो कर १७१. ३० घ भारत तो माउ है या गादी स्त्री निये याध्य पर्य माये थे। इन पिताका म मा गिगड गरी fort | ऐमा गनगाना दाग र Nethy rat शारा गाय। रिमारिक गुटम गीता र मखममा ( Council ) रे उनका कार्याधलीको दिर ये परामा सना मधिनायक हुए थ। निन्दा यरत हुए प्रनिरा किया। इस पर नागे वझे पहाने मामगि धिम गो रट कर रोने समादया। विग और रशिया लेना अपराधम अभियुक्त संगठन किया। का रामम अधर एक शशि घर्षको उमरगे (१७०२१०) परासा मेनादरकमाइमेट। म युद्ध का मामाज नगरप पद पर सुना गया। ४३ सी उमर ( २७४ । । मामा त परमेशापतिगण उन इन्सान भरी घरे माइ नाउरिहोरे परिचालिशा तगा गोथे। लोगों पूणार मिड मेनादरसा अधिनायर र फरिटनर रणक्षेत्रों ! मा उना उघा कर दिया और महान पर मामि विरमा परि रिया था। भार गानाहाइस मगर त्या सा माrिil उगप माझा वेग7 मद मी और मेणित भौद्धिानि दिदी 17 गा मित हुा। उमा दिन फरामो मे रणागिडत्य, Nो नौहिणीम परित्यको सपको विप