पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/२८८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


मारपया-साधिका पया ( मा गोमा नामका यर । गजा-राजा मतगत एक देशाय साम त रान्य। जाण्यासिन (rowI0) गवयन afF तिम् । वा या भई ०.८ १८ मे ते पर २८ २९ ३० तथा 10 दहेन नो विवादमें ससुर सौर माम देती हैं। ७९ ३ से ले कर ७ ३८ पू.फ यो ! बदार (पा०वि०) जो छोडी ना? या र नमार सरा भूपरिमाण ८ गमीर और जनररमा २.७१ यि तैयार हो। - तपमें वसा रगाने वाला, नोपमोड है।यपुर रामने मिसोममय पौरिया नात्मीय नयाला। को लापाका सामत पद दिया। इस वाद महाराष्ट्र लासा (हि . क्रि०) लगाना, प करना। जरना, सादार मोर खालिया धिर र र वहाके शापुरको भाग गाना। पदाना दिया था। उसके बाद ठाकुरगण तोडसाम ते लवनि (Fa) नानी देखो। राजके अधान हुए थे। १८५७ ६० बगरेन गरम एटन रायनी (हि. खा० ) १ गारीका एर प्रकारया छद। इम अधानता पाने तोड दिया था। .इम छदका एक प्रकार जा प्रा" चग बना पर गाया लासा गर तोम १० कोस उत्तर पूर्वम अप नाता है। इस ख्याल भी पइते हैं। इस बार कोई रिशत है। गीत। लाराक्ष (म० पु. ) ग्राहिमे चना धान। राषयानी ( म०पू०) १ यह निमे किसी प्रकारको चिा __(मुगुन २०४६ १०) सादि न हो लापरवाह वेफिन । २ यह जो मदा निम्मा पाड-युक्त प्रदशव मारटानलेक अनर्गत एक नगर। घूमा करता हो गाघारा | ३ ६ निसरे विचार धामिक यह अक्ष • ८६ ७ उ० तथा दशा० ७७ ४३० तर दृषिम्मे बहुत ही स्वन र अन्छ गर हो। (स्त्री०) ४ लाच । माट मदरस ८ कास उत्तम जमिशन है। जनसप्पा गरी द्वारा मात्र लावा! 1०४६ है। यहा परमहरा सराइ मा सुन्दर मन्द (फा० दि) जिमय पालवधा न हो नि म त। प्रामाद विद्या | इस प्रासादर आम पाम पहा गदा (फारसा०) सापया निम्तान होनेत्रा उद्या मगायाधाम पड़ा है। करीब १७००३०मदम भारया याया। भट्टारिकाको पफ उठ यपि जवाहिर मि.न निर्माण या (२० पु ) 7 IIT Pी। नपा दया। दिया था। मारद दरक ननदा ही बनाया एक लाया (हि.पु.) भूना Ft धान स्यार, वारा या यहुत बडा सूयाण्ड ।। रामदाना आदि जो भुनो कारण पूर मा लाराण (स० पु०) मान? ए द का नाम और जिमपे अदम सफेद गूटा बार निकल आता, मगधर पाम पा! ६। यह बहुत.741 गौर सय समझा जाता है और वापरछन (E: पु० ) विमान्य माया पर । माय रोगियों को दिया नाता है। इस साल या गईमा इसमे IT अगेप या बड़ा को जाता है और उसय पड़ते हैं। पडरिया दी जाती वयपा भाइ उमा या (अ.पु० ) गम, पत्थर गौर नु दिमि। उल्शिमं धान डारता ह। मानौर सप्तपदी दुमा यह द्रव पदारी नोमाया स्यातमुवा पतक मा याद होती है। मुम्बम विस्फोट होने पर शिरता है। । सरम (अ.पु.) दमानिसका भी उत्तरा पापा-पक्षमा म नि नगन एक गाम।। धितारा या पारित न हो ! ५ यह सापति सिता या अमा० ३२ ४१४६३० तथा ना० ७१ 45 ३. भाग या मामी हो। पमा पश्चा थोर पपन उत्तरम स्थित वारिमा ( 10 fanRE IT अधिशानदा। हैं। भूमिाण १३. यगमीर है। यह एक सुराहा गपिन (म0पु0) कि, मदिप । 'मायान् प्राम नामस प्रादित है। लायिका ( मरा०)स्या लामा पक्षो। ____Not IT