पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/३९१

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


लोहितक--लोहिताक्ष लडाई। . सरोवर विशेष। (मत्स्यपु० १२०।१२) लोहिनीव (सं० पु०) लोहितं रचना प्रीया यस्य । १० माणिक्य । (पु०) ११ नविशेष! यह ब्रहापुत्र- अग्नि । ( मा०पु० ६६VE) की एक शाखा है। लौहित्य देगे। १२ सागरविशेष। लोहितचन्दन (सं० लो०) लोहित चन्दनमिव । १ कुकुम, इस सागरका जन लाल होता है इसलिये इसको | पंसर । २ रक्तचन्दन, लाल चन्दन । लोहित या लालसागर कहते हैं। यहां वरुण रहते लोहितजाहनु (सं० पु०) एक प्राचीन ऋपिका नाम ! है। (भारत वनर० ) १३ मोम । (वृहत्संहिता ६८) (आश्व०ओ० १२ १४) १४ रोहित मतार, रोह मछली । १५ मृगविशेष। लोहितत्व (सं० को०) १ लोहितका भार या धर्म । १. सर्पभेद, एक प्रकारका सांप । १७ सुरमेन, द्वादश लोहिनयर्ण, लाल रंग। मन्यन्तरके एक देवता । २८ मसूर, मसुरो। १६ रक्ताछु। लोहितध्वज ( स० त्रि०) १लाचर्ण पताकायुक्त । (भारत २० रक्तगालि, लाल धान । २१ वलभेद । २२ पर्जन- उद्योगपर्व ) (पु.)२ सम्प्रदायभेद । ३ पृग, ग्नुपारी। विशेष । (मत्स्यपु० १२०११) २३ कुशद्वीपस्य वर्षभेद । (पा ५५३१११२) (मत्स्यपु० १२१११६५) २४ वक्षरोगविशेप, यांपकी एक | लोहितपाददेश ( स० पु. ) एक देशका नाम । वोमारो। ( गाईवरस० १६१८७) २५ नागभेद । २६ हद लोहितपित्तिन् ( स० वि० ) रनपिनरोगी, जिसे रक्तपित्त विशेष । (हरिय ग) (वि०) २७ रनवर्ण, लाल ! २८ रक्त- फी बीमारी हुई हो। वर्णगुल, लाल रंगका। लोहितपुष्प ( सं०नि०) लालवर्ण पुषधारी, रक्तकुसुम- लोहितका (सं० सी०) लोहित मिव स्वार्थ कन् । १ रीति ।। समन्वित। २ कांस्य, कांसा। (पु.) लोहित पर स्वार्थ कन् । लोहितपुण्यक (सं० पु० ) लोहित पुरुषमस्य कप् । दाडिम- ३ मङ्गल ग्रह । ४ पद्मरागमणि । ५ धान्यभेद, एक | | वृक्ष, अनारका पेड़। प्रकारका धान | ६ बौद्धरतूपभेद । चीनपरिव्राजक लोहितमुक्ति (सं० स्त्री० ) लाल मुक्ता। एनचुवङ्ग इस पर्वतको देस गये हैं। ७ माज फलके लोहितमृत्तिका ( सं० स्त्री० ) लोहिना मृत्तिका । रोहतक नगरका प्राचीन नाम। १ गैरिक, गेन । २ रफ्नवर्ण मृत्तिका, लाल मिट्टी। लोहितलमाप (सं० ति० ) लाल वर्ण चियुक्त, चित-लोहितराग (सं० पु० ) लाल रग। कस लोहितवत् ( सं० वि०) रफत सदृश, रफ्तयुफ्त । लोहितकृट-एक प्राचीन जनपद, सम्भवतः लोहित | लोहितवासस् (सं० वि०) रक्तवर्ण वस्त्रयुक्त, लाल पर्वतके पासफा रथान । (हरिवंश ) कपडे चाला। लोहिताण (२० वि० ) कृष्णाभ वर्ण, गाढ़ा लार। लोहितशतपन (सं० लो० ) रजोत्पल, लाल पा । (भागवत ५।२४।१०) लोहिनक्षत्र ( सं० पु०) १ रक्तक्षय, लट्टे का क्षय होना। लोहितशवल (सं०नि०) चितकबरा। २ रक्तनाश, ग्युनकी खरावी होना । ३ रक्षक्षरण या लोहितसार (सं०वि०) लाल विन्दुविशिष्ट । मोक्षण, लट्ट गिरना। लोहिता (सं० स्त्री०) लोहित-स्त्रियां टाप। १ क्रोधादि. लोहिनक्षयक (सं० तिः) रक्ताल्पता रोगग्रस्त । जन्य रक्तवर्णा, वह स्त्री जो क्रोधसे लाल हो गई हो। लोहितक्षार ( स०नि०) रक्तवर्ण गाढा दुग्धक्षरणशील।। २ वराहक्रान्ता, वाराही । ३ रक्त पुनर्णवा। लोहितगद्ग ( सं क्ली० ) १ प्राचीन जनपदभेद। (अय्य०)| लोहिताक्ष (सपु०) लोहिते अक्षिणी यस्य ( सकथ्यक्षणी: • जहा गङ्गा लाल दिखाई पड़ती है। स्वागत् यच् ) १ विष्णु। २ कोक्लि, छोयल । ३ लाल ___(पाणिनि २२११२१ भाग्य) | रगका अक्ष या पाशा, युधिष्टिरने वैदुर्य और काञ्चनमय लोहितगङ्गक (सं० लो०) प्राचीन स्थानभेद। कृष्ण और लोहित अक्ष या पाशा तैयार कराया था।