पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/४२८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


वक्ता-यात्रशोपिन् याला शाल्धिान्य। सरम इसे धो धान कहते हैं। वनार (स.को) यपत्रस्य तारम् । मुखवाय, बद यह रर और मुसपान्य होता है। ताल जो मुखसे उत्पन किया जाय। मा ( स० वि०) तृष । नापी योग्नेवाला। पततुएउ (स.पु०) गणे।। २ भाषणपद, पदान्य । पयाय-पद, कायद, वना सुष्टु | वपनाष्ट्र (स. त्रि०) पवे मुनदेशे ददाणि यस्य । पचा भाग पामो, चा, पर सुपचा, प्रभाव, १दाघद तविशिष्ट जिसक दांत वडे यां ) (०) पण्डित । (पु.)३ क्या ऋदनेराग पुरुष, पास। २शूर, सूअर। पति (सखा० ) उनि, कथा नाय । चवद (सहो.) तालू । (वृहदारपरक उप० ४१३१२५) परद्वार (स०को०) मुखविपर। वज (स.पु०) मन्दवास्यमायो कुत्सिन वाक्य बोल्ने घरपट ( स० को०) मुखावरणवान। चाला पुरप। यमपट्ट ( पु.) वक्त्रस्य पट्ट इय । वह बरतन जिसमें वन वाम ( स० वि०) या कामय । प स चा वयनु घोडा चना पाता है तोवहा। पर्याय-तलिका, तल पामा यस्य स । यो में दस्तुर या गभिरापी। सर वपतुमनस (म नि०) रतु मनो यस्य स वर मा । पत्रपरिम्पन्द (स.पु.) १ वक्तृता साय मुखका कथितमानस शिाने वोल्ने इच्छा की है। कापाया दिल क्या, पाचन । रस्त (स० वि० ) पधाशाल, वा, वारनेवाला। । यक्वाटु (म० पु०) पाराहाक्द। वपना (स० वि०) वस्तु म्याथै षन् । १ अयनपटु जो " चपनभेदिन (स० पु.) वर भिनतीति भिद णिनि । घोलनम खूब चतुर हो । २ सत्यवादी, मच बोलनेवाग। ! १ तितरस, तीता । (त्रि.) २ मुपविदारर मुद्द वक्तना (स. सी.) वच तृन् तस्य भाव तल टाप।।. पानेवाला। १ पारटुना, वाग्मिना । २ ध्यागयामावण, क्थन। वश्वयोधिन् (स० पु०) १ एक असुरका नाम । ( हरिस श) यपतर (म को०) १ पलता, वाग्मिता। २ व्याख्यान 1) ३धन। (त्रि.) २ मुखसे लडाइ करनेवाला (पक्षि भादि)। वक्तृत्वाति (स • स्रो० ) पोरनेश क्षमता। वक्चर ध्र (स० को० ) मुसचिवर । यक्त (स.हो०) यत्ति मानति चच (गुवापचिाचिय। रपवरह (० नि० ) १ मुम्बो उत्प त हो। (पु.) निमुदिक्षदिभ्यस्त्र । उप ४११६६) इति स 11 मुम्पा वदन, र यह बाल जो हाधीका सूद्ध पर होते है। भाग्य, आनन, मुम्बाधार है। सयपत्र श इसे या (वृत्तस०६४१०) पा मुत, हाथाका सूड पयोको चाच, तीरका १२ वयत्ररोग (म० पु०) मुखरोग, मुहको योमारो। भृतारा Tल आदि समझा जाता है। २ नगरकी पतरागन् (मा० स० ) मुभराग मोगकारी, जिसे मुह को शीमार हो। ३ परभेद, एक प्रकारका पटा। ४ एक प्रशरका उद नो अनुष्टुभ् छदके अनुरूप होता है।५ काममा प्रारम्भ । उपवास ( स० पु० ) वपन यासयति सुरमीकरोतीति ६ योजगणितोक्त प्रथम गृहीत सर या। 171 बासि (कपयण । पा ३१२११) इति अण। १ नारङ्ग, घपत्रक (स.नि.) मुखसम्म मात्रा पारगी। चपरस्पास । २मुखताधा पपत्राद्धता ( स०सी० ) मुखर। याच्या (10 स्रो०) गुचा घुघची। वस्त्रचर (स. पु. ) NEET मा शुरइस पृषो रादित्वात् पत्रशोधन (स.का.) वनस्प शोधनमिघ । १ निम्यु स। दएड। फल, नीनू। २ भव्य कमरप। ३ मुसशोधन मुख वपलज (सपु०) सापो चक्नात् पापन इति ।। शुद्धिकरण । 'ब्राह्मणोऽन्य मुनामात् इति धुने नन वाह्मण। वक्तशोधिम् (सं० पु०) का शोयतीति शुच णिच (१०)२ मुखनान मुम्बने उत्पा |णिनि। १ पीरो नीबू । २ मुशोधक। Fol x 100