पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/४८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


रोप ताम्राज्य रोमक शासन प्रमाती और सैन्य घ्याम्या : अधिवेशन कर सकते थे। घे हो सनटके ममापति थे। इस ममयक रामकी 'क्नटिटिउसन' या ामन यर इमा भगरा जनताको सम्मतिफ अनुमार ये सैन्य स्थाका सक्षेप घणन करना चाहिये। पहले विधियन, विभागके समय पत्ता थे। ये ही प्रत प्रस्तावमें क्ट्रिशियनों के विरोधको घटनामोश उल्लेख किया गया मैन्याय दण्डमुएउई कता थे। उनमें से हरपरफे अधोने है। इस समय निरियन पिनेशियनोमा वरावरीम निकृर रहने थे। उपरोक्त मनिष्ट्रेट प्रति वप हो किसी तरह कम न थे। एनिक युद्ध के बाद से दोनों निगचित हात थे। के अधीन कमी कमी प्रोक सल दल में कोई विरोध नहीं हुमा । क्योंकि प्रति ५पदा और प्रोप्रिटरगण नियुक्त होने थे। साधारणत त्रक पसल और दो से मा लिपियोंकी बोरमे नियमित परपत्ती कालम सलो शासनकार समाप्त होने पर कासे निवासित दिये जाते थे। पिट्रशियनों के किमी ये प्रोन्सल फे रूपमें पैदशिक शासनक्ता नियुक्त क्सिी काल्पनिक उपके सिवाय और कोई सुविधा, होते थे। नहीं थी। प्रत्येक रोमासा भिन्न भिन सरकारी काम ५। दूसरे प्युनिष-युद्धके पहले तक सिफ्टेटर शिपका फरनेक याद कम्सल हो सस्त थे। किन्तु जो नीचे , निशेष प्रबला था।तु रोमरी प्राधान्य पृद्धिक साथ मोहदे पर काम नहीं करते, उनमें अधिक गुण रहने पर। साथ इस साधारण पदकी उतनो भावश्यक्ता म था। मोघे सल नहीं हो मक्ते थे। सिफ प्रसिद्ध सिपियों किन्तु सल किसी युद्ध चिप्रहक समय पिटेररको को मुरीम इस नियमशाध्यमिनार हुमा पा। इम्बो क्षमना पाते थे। मन् १७Eके पूर्व 'ल्पत मानालिस' नाम पर माइन (६) सेन्सर-प्रत्येक पात्र यप पर दो से सर नियुक्त बनाया गया। उसके अनुमार 'कोपेष्टरशिर' या निम्न ' होत थे। किन्तु १८ महीनेस अधिr कोह उन पद पर तम मजिष्ट्रेट पद पर अधिष्ठित व्यक्तिको उमर २८ यष, कार्य कर नहीं सकता था। इनके कार्य विशेष प्रयोज उनसे नीचे इसालशिपका ३७ मिटरपिकी ४० तथा नाय और दायित्वपूर्ण थे। इनके काय तीन भागोम कम्मर पदफे लिये ४३ पर्य ठहरा गा। जो उत्त पद। विमन थे- पर नियमानुसार कार्य करते थे, यही पा समय ८ सल (१) इनके सपप्रधम कार्य मर्दुमशुमारो और उस हो सकते। उपरोस मनिटगण दो भागोंम विभत को रिपोर्ट तैशर र प्रत्येक प्रजाती सम्पत्तिका मूय थे-रामचिदालत क्यूरिउठ या कसल, निर आदि निर्धारण करता था। पीछे सम्पत्ति के अनुसार अधि तथा नन क्यूरिउल मजिष्ट्र ट या विषटेर मादि। । पासियो का श्रेणा विभाग किया जाता था। पहल १। पोयेपरगण राम्या येतन वाटने और रानस कहा गया है कि मास्पिस गलियसने इस प्रथाका धमूल करत थे। सर्वप्रथम चलाया था। २ घाइगण ठोर परिरक यस हिपार्टमेएर (२) ससरोंक दूमरे काग-मधियासिक पा सरकारी प्राचार्य नियाहक । चरित्र तथा पयहारफे प्रति दृष्टि रखना। इस विषयम मिटर मार सल (पो राजकीय मजिस्ट्रेट)। ये अपने कर्त्त र शान के ऊपर निार करत या विमाका मिटरगण सनेट सभा करते, व्यहारशास्त्र वनात और' भनुराध रक्षा तथा प्रशंसाको परवाह नहीं करते थे। ये मामरिक शासनके अधिकारी थे। मन्पेशमिटर प्यक्तिगत भीर माधारण भमव्यवहारपे लिपे दएन रिफर रहते थे। पहले सिपिल विचार या नागरिक विधान किया करते थे। मेमरगण उश धेणाक विवार कार्य रिपे पर प्रिटर नियुन होते थे। लोगों को नियमोमें रान, मनेटके सदस्योंशे दोष ४। कासलगण उयतम मनिदर थे। ये राय कारण हरान और माधारणको राजाप सुविधासे मामन और मामरिष विभागको परिवारना मिया: पश्चिन परसाते थे। परत थे। ये सेनर ममा परले वपा साधारण समाशा (सिया इम पे सनरक परामर्शसे रायसी Vol. I