पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/६७७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


६३ घर्पायुप्रवाह-वर्मन् वाग्वुप्रवाह ( स० पु० ) वर्षाके पानीको धारा। वपिन (सं० वि०) चपणकारी, श्रायिन् । वर्याभापारणतन (सपु०) वर्षाम्भा दृष्टिजलं तम्य | वर्णिमन् । २० पु० ) का भार, दीघजीवित्य । पारणं उपवासान्ते पानं व्रतमिव व्रतं यस्य । चातक, (गुम्लय०१८४) पपीहा। वर्षिष्ट (सं० वि०) १. अनिमय यत, यदा यहा। २ अत्यन्त वर्षायस ( स० वि० ) अतिवृद्ध, नये वरससे ऊपरकी बलवान्। अवस्थाका। वर्षिष्ठमन्त्र (सं० त्रि०)१ अतिशय क्षमता या ननि- वरात्र (स० पु०) वर्षाणां रात्रिः ततः समासान्तोऽन् । शाली। मित्रावरुण । १ यर्पाकालीन रालि । २ वर्षाऋतु । वोंका (सं० सी० ) पक्ष प्रकारका छन्द । वर्षाचिस (स० पु० ) वर्षामु अच्चिदीमिग्य । वर्षीण (२०नि०) वर्षणमन्यन्धीय। महलपह। वीय (नं० वि०) चत्मर या वयम-सम्बन्धीय । वपाल ( स० पु. ) पतंग, फनिगा। वीयम् (सं० वि०) रायमनयोगतिणन मृद्धः, वृद्ध य- वालवायिका (म० लो०) पृमा, पिडि माग | सुन तनो वांदगः। अनि वृद्ध, बडा वृहा। पर्याय- वाली-पाणिनीय ऊर्यादिगणोद्ध त एक गद। दशमी, ज्यायान। (पा ११४६१) वर्यावत् ( म०नि० ) वर्षासदृश, वर्षा के समान । ___स्मृतिशास्त्र में लिया है, कि मोला वर्ष तक बालश, वर्षावती (सस्त्री०) १ इन्द्रगोप, ग्यालिन नामका कीडा। उसके बाद तगण या युपर होता है। नय सत्तर वर्ष के बाद २ मेकपनो । ३ पुनर्न था। वृद्ध एवं नव्धेके बाद वर्षीयान् कहलाता है। चर्पावसान (म० पु०) वर्षाणामवसानमव । १ शरत् , चप | वर्ष (सं० वि० ) वर्षभ नुपादि, वर्षाकालोत्पन्न । काल । (लो०)२ वर्षाका शेष। वर्ष क (मं० वि० ) वर्षति तच्छाल इति च प ( लप पनपद- वर्षाशाटी (सं० स्त्री०) वह वास या कपटा जो वर्या- त्याम- हन-म-गम अभ्य उन्। पा १२।१५४ ) इन्दि ऋतु वौद्ध लोग पहनते है। उपम् । वर्पणकर्ता, बरसानेवाला। वर्याशरी (म० स्रो० ) वर्षा और शरन्काल । | वर्ष कान्द (२० पु०) वपु का वासी अन्दश्वेति कर्मधारयः । बासमय (सं० पु०) वर्षाकाल । बरसनेगला मेय। चर्यानुस (नति०) चमि उत्पन्न होनेवाला। वर्षेज (सं० वि०) वर्षे जायने अनि जन-३, सप्तम्या वाहिक (म० पु० ) विषविहीन सर्प भेट, वरमानी साप' अलुक् । १ वर्षाकाल जान । २ वत्मरजात । जिसमें विप नहीं होता। (तु त कल्प० ४ २०) 'वर्षेश (सं० पु०) वर्षस्य ईः। घर्षाधिप । वर्याह ( स० स्त्रो०) वर्षाभू मेढकी। । वाँव (सं० पु० ) मड़, प्रभजन । वाहा (सं० स्त्री० ) पुनर्नवा! वोपल (सं० पु० ) वाणामुपलः। मेघजात शिला, चर्षिक (स० वि०) १ वर्षासम्बन्धीय । २ वर्ष सम्बन्धीय। करका । वर्षा और वर्ष इन दोनों शब्दों के उत्तर णिक प्रत्यय वट्ट (सं० वि०) व टिकारो, वर्षा करनेवाला। करनेसे वर्षिक पद होता है। चम (सं० लो०) शरीर। (द्विरूपको०) "वमोऽस्मि वर्पित (संत्री० ) वृष्टि। समानानाम्। ( पारस्करराय० ११३) वर्पिता (स० सी०) वर्षिन् भावे तल ततष्टाप् । वर्षण- 'वर्मन (सं० ली.) वति वायते वेति वय-मनिन् । फर्ता, वरसानेवाला। १ गरीर। २ प्रमाण। ३ इयत्ता। ४ जल रोधक, वपितृ (स० वि० ) वर्षणकर्ता, यरसानेवाला। बांध । (त्रि०) ५ उन्नत । ६ स्थिर। ७ अति सुन्दरा. (निश्क० ४।८) कृति । ८ वर्षीयान् , अतिशय वृद्ध ।