पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष सप्तदश भाग.djvu/१२७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


गहरा-मलिक साथ उसका वियाह न दो मकता हो। २ रहम्यमे , महन्लोक ( पु०) महश्शामा लोपोनि कर्मधारयः । परिचित, भेदका जाननेवाला। (ग्री० ३ गिया ।' पुगणानुमार भृ. भुया भादिनीवह नोयोगमे एक । १४ अंगियाकी कटोरो। | लोकनिमे ७ अनुध्योर. मार ७ भयोलोक है। मद- महरा (हि० पु०) १ कहार। २ञ्चसुरके लिये भादर | मदन अनुध्यताकोगग गांधा है। सूचक मद। (वि.)३ श्रेष्ठ, यड़ा। "भू यांना सर सर महराई (त्रिी० ) श्रेष्ठता, प्रधानना। मत्यापन में प्रस्तुपरकौनिना" महराज ( हि पु०) महाराज देगी। ( राय) मगजा (हिं० पु. ) महाराज देगे । कल्पयामी ममी लोकदम लॉक सम्मान करने है महराण (जि. पु.) समुद्र। "ना तु महादों के निरन् रिना।" (Lig.) महराना (दि० पु०) मरोक रहनका धान, महगें मदपंग (सं० पु०) महाश्वामी प्रश्नति कर्मचार। रहने की जगह । २ महाराणा देवो । गातु पएड, वह मांद। (नि०)२ मति धेष्ठ । महराय (हिं० स्रो०) मेइगर देखो। मामी (सं० रखी०) महतो चामी नापमा गनि कर्मधा० । महरि (द स्त्री) १५ प्रकारका आदरगना कापरुन्छु, काछ। इसका ध्यपदार मजमे प्रतिष्ठित खियाके मधमें होता ' महर्षि (म० पु. १ बहुत वहा भीर ध्रेष्ठ प्राधि, प्री- है। २ ग्यालिन नामक पसी, दहिगल । सामिनी, यर । एक राग । यद्द भैरय माट पुगिमे एक माना मालफिन । । जाता। महरी । वि० सी० ) ग्यालिन नामक पक्षी, दहिंगल।। महर्षिका ( सं० नोगट काग, मफेद मटाटया । महरू (.हि० पु०) १ च पौनेको नली। २एक प्रकार. . महल ( म०पुर) प्रासाद, बहुत बड़ा और बढ़िया मकान का पक्ष । जिममें राजा या रांस रहते हैं। महरूम (भ० वि०) यचित, जिम प्राप्त न हो। पहलमरा (हि० रखो. ) अन्तःपुर, रनिवामा महरेटा (दि. पु.) १ महरका येटा, महर का लपका।२ में 'मदलाट । वि.पु.)पप्रकार का पंक्षी | धमकी दुम धीरण। लंबी. टोर काटी, छाती गरी, पोट पाको रंगकी और मदरेटो ( दि० स० ) पृषभानु मी लहया, गैर काले होते हैं। घोराधिका। मादली पटना । दिपु० ) एक प्रकारको ही माग । म महरेणु (मकी० ) देना । पर पे.पल लकी या परधर भादि मादा जाता है। महर्यता (मस्त्री० ) मागे होनेहा भाग, महंगी। महाल (सं० पु०) रमलोक, यूटा मनुष्य । २ गोता। मदविज (मपु०) प्रायिकाभेद । यसमे अध्ययु.

महालक (म० पु०) मदतः निरिक्षादिकमान् शिलान् भागन

प्रहान, होता और उद्गाता ये ना मदत्यिंज पार नाति गुदानि ला (भादोऽनुर सगै ।। पा ) निक लाते हैं। मतः पाकन, हा महानसिगुण नकार मामा. दातांति ला भाम्पादने भन। अन्तःपुरक्षा, tml महदि (म. मि.) १ यिपुल निशाली, बहुत धनवान् । पर्याय-सायिदा कम्युको, पल्प, मौयित, विवाद (जी.)२नुर. धन. सहुन उन्नति । महर्तिक । म नि ) गपुल पातालो, बहुत धनी । मायिदा, भन्ननित। मन्ना (म. पु.) शादरका परिमाया २श्यशविरसम्पन्न । गि . में समुनगान आदि। महर्सिग्राम (गपु. गागागा (पि) महभिर में पु म तिगुण निमतविति यिपुर विगमयत्तिमाती. यदुन धना ! माम् निशा- दादरचा मानः। अन्नसुरक्षा, महनिमत् ( स० वि०) दयानि द्वारा धनमाली। ' titi | Tot. ATH.30