पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष सप्तदश भाग.djvu/४२६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


३७८ माधवाचार्य-माधयाय परिशोभित दुप। नित्यानन्द प्रभुको कना गङ्गादेवीके माधवीलता, चन्द्रवल्ली, सुगन्धा, भ्रमरोत्सया, भृङ्गप्रिया, साथ इनका विवाद हुआ। । भद्रलता, भूमिमण्डपभूपणा, वासन्ती, दूती, लतामाधयी। यैष्णव सम्प्रदाय में इन्हें शान्तनु राजाका अवतार (शब्दरत्ना० ) यतलाया है। माधव शान्तनुनपः' गीरगणो शदीपिका . इसका गुण-कटु, तिक्त, पाय, मदगन्धी, पित्त, . भी यह श्लोक पाया जाता है। कास, व्रण, दाह धौर शोपनाशक । (राजनि०) भावप्रकाश. माधवाचार्य-ननामके चशाला प्रामयासी पुण्डरीक को मतले पर्याय-वासन्ती, पुण्डक, मएडफ, अतिमुक्त, विधानिधिके थाल्यसखा । दोनों ही एक साथ पढ़ते विमुक्त, कामुक, भ्रमरोत्सव । गुण--मधुर, शीतल, लघु और दोनों ही भाविर श्रीगोराङ्गके भक्त हुए थे। तथा त्रिदोषनाशका माधयाचार्य-नवोपयासी वैदिक दुर्गादास मिश्रके दो २ मिसि, अजमोदा। ३ फुटनी। ४ मधुशर्करा, पुत्र थे, सनातन और कालिदास। सनातनके एक पुत्र शहदको चीनी। ५ मदिरा, शराय । ६. तुलसी। ७ और एक फनया यो । कनाका नाम विष्णुप्रिया देवी था। दुर्गा । ८ माधवकी पत्नी । ६ मधुवंशजा कन्या, यहयन्या ये हो श्रीचैतना महाप्रभुकी दूसरी स्त्री थीं । कालिदासके | जिसका जन्म मधुवंशमें हुआ हो। १० सयेका छन्द- भी एक पुत्र हुभा। उसी पुत्रका नाम माधव था। का एक भेद। . ११ ओड़व जातिकी एफ रागिणो । इस ____एक दिन श्रीवासालयमें श्रीमहाप्रभुका अभिषेक में गांधार और धैयत वर्जित हैं।. . . . हो रहा था। सभी भक्त उपस्थित थे। इसी समय माधयो-पफ वैष्णवी कवि। ये नीलाचल (उसोसाफे माधयानाय भी वहां पहुंचे । श्रीमहाप्रभुको कृपासे माधय- अन्तर्गत ) की रहनेवाली थी। शिखिमाइतो और मुरारि. ने कृणप्रेम लाम किया। पीछे महाप्रभुके कहने पर थे। माइतीकी छोटी बहन होने पर भी येणपग्रन्थमें उन्हें श्रीगौराङ्ग अत प्रभुसे दीक्षित हुप । माधव एक प्रसिद्ध 'तीन भ्राता' यतलाया है। .. .. . . . . कयि थे। धीगीरानफे आदेशसे इन्होंने 'कृष्णमङ्गल. ___ महाप्रभु दाक्षिणात्यका पर्यटन फर जय नीलाचल काध्यको रचना की थी। पारे, तब प्रथम दर्शनमात्रसे ही माधवीको उनके मग. माधवाचार्य-निम्बार्फ-सम्प्रदायके एक गुरु, स्वरूपाचार्य के शिष्य और बलभद्राचार्य के गुर। पदयतारका शान हो गया था। इसलिये घे उसी समय उनकी भक्तिन हो गई। . माधयानन्द-शाम्भव कल्पनु मफे रचयिता। , माधवानल ( स० पु०) माधवनलाख्यानके रचयिता | .... माधयोदेवीके गौरविषयक पद ऐतिहासिकरात्यस एक प्राचीन पण्डित । पूर्ण है। माधयार्य-नरकासुर-विजय नामक नाटकके प्रणेता । जगन्नाथदेयके श्रीमन्दिरका दैनिक यिवरण लिपने- ये माधवेन्द्र नामसे भी साधारणमें परिचित थे। लिये एक लेखकको आवश्यकता थी। मायोका माधवाश्रम--एक साधु पुरप । घे नारायणाभ्रम | लिखना अच्छा होता था। उनफे त्यल्पाक्षर-प्रथित शिष्य थे। इन्दोंने स्वानुभवादर्श नामक एक ग्रन्थ रचनागाधुर्य, पाण्डित्य और यदिगौरयसे. मोदित हो बनाया। इनका दूसरा नाम माधव भिक्ष भी था। । कर राजा प्रतापाद्ने रखी होने पर भी गायीको इस माधयिका ( स० स्रो०) माधवी-कन टाप । माधयी पद पर सम्मानित किया था। उड़िया रमणो, होने पर स्दता। भी उनसी भाषा, गाय और लिगनेकी शैली पढ़ी ही माधयो (स० सी०) मधी साधु पुष्यति मधु:( फाप्नात् साधु अच्छी थी। उगगो रचनामें सरलता मार मधुरताका पुष्यत् पच्यमाने। पा३४३) त्या टीप१ स्यनाम दुर्लग निदर्शन अष्टा था। . .... गपात पुष्पलता। इसमें इसी गामके सुगंधित फूल माधयीय (स लि.) माधयाचार्य-प्रणीन, माया- लगते है। यह चमेलोफा एक भेद है। पर्याय-अति: । चाफा बनाया हुआ।. २ यसन्तसम्बन्धीप, घसन्त- मुक्त, पुड., यासंतीलता, अतिमुक्तक, माधयिका, ! अतुफा। . .