पृष्ठ:Antarrashtriya Gyankosh.pdf/३२७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


________________

रूज़वेल्ट बाद, पेतॉ-दल ने इसकी सरकार को उखाड फेका । पीछे कई तरह की अफवाहें उडी कि रिनौ मार दिया गया, मोटर की टक्कर में मर गया, यह भी कि पेतॉ-सरकार ने उसे बंदी बना लिया है । | रिबनटाप, जोशिम वान–नात्सी जर्मनी का परराष्ट्र-सचिव; जन्म । सन् १८८६, विगत विश्व-युद्ध ( १९१४-१८) मे गुप्तचर का काम किया । | युद्ध के बाद शराब बेचने का एजेन्ट होगया । इस सम्बन्ध मे घूमते हुए, | ‘शेम्पेन'-नामक अगूरी शराब बनानेवाली हेकल फर्म से, कोलन मे, उसका | परिचय होगया । फ़र्म के स्वामी की पुत्री से उसने विवाह किया । सन् १६३२ मे वह नात्सी-दल में शामिल हुआ | जल्दी तरक्की कर गया और, हिटलर के उदय के समय, उसने सरकारी परराष्ट्र-विभाग के मुक़ाबले में, | हिटलर की ओर से, एक दूसरा परराष्ट्र-विभाग कायम किया । ( सरकारी | परराष्ट्रमन्त्री तब बैरन न्यूरथ था), | दल के कार्यक्रम को कार्यान्वित करने के लिये साहसपूर्वक अग्रसर रहा । लन्दन में राजदूत मुक़र्रर | किया गया । बरतानी सरकारी क्षेत्रों में वह नात्सी प्रकार से | अभिवादन और व्यवहार करता रहा । जब जर्मनी का शासन-भार हिटलर के हाथ में आगया तब, सन् १९३७ मे, वह परराष्ट्र-सचिव बनाया गया । रूजवेल्ट, फ्रेंकलिन डिलानो-सयुक्त राज्य अमरीका के राष्ट्रपति; ३० जनवरी १८८२ को न्यूयार्क में, उच-वंश में, जो १६४९ में अमरीका में ब्रा बा था, जन्म हुआ । दिलानो इनकी माता का नाम है । अमरी | रे पुरातन राष्ट्रपति थियोडोर रूजवेल्ट के वंश ने झापा दूर का सदन्ध हैं।

  • वैल्ट १६०४ में हारवर्ड विश्वविद्यालय में एट हुए तथा लक्ष्यिा | ना कालि से १६.०७ में कानून की सनद हासिल की । नन १९१० में, प्रज्ञा

- -