पृष्ठ:Ramanama.pdf/६८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


६० रामनाम इसिलिए मै कहता हू कि आप इस कोशिशमे लगे रहिये और जब तक काम करते है तब तक सारा समय मन-ही-मन रामनाम लेते रहिये । इस तरह करनेसे एक दिन ऐसा भी आयेगा, जब रामनाम आपका सोते-जागतेका साथी बन जायगा और उस हालतमे आप ईश्वरकी कृपासे तन, मन और आत्मासे पूरे-पूरे स्वस्थ और तन्दुरुस्त बन जायगे ।” -नई दिल्ली, २५-५-४६ मौन विचारकी शक्ति आजकी प्रार्थना-सभामे गाधीजीने कहा “ आप सब मेरे साथ रामनाम लेने या रामनाम लेना सीखनेके लिए रोज रोज इन प्रार्थना-सभाओमे आते रहे है। लेकिन रामनाम सिर्फ जबानसे नही सिखाया जा सकता । मुहसे निकले बोलके मुकाबले दिलका मौन विचार कही ज्यादा ताकत रखता है। एक सच्चा विचार सारी दुनिया पर छा सकता है - उसे प्रभावित कर सकता है। वह कभी बेकार नही जाता । विचारको बोल या कामका जामा पहनानेकी कोशिश ही उसकी ताकतको सीमित कर देती है। ऐसा कौन है जो अपने विचारको शब्द या कार्यमे पूरी तरह प्रकट करनेमे कामयाब हुआ हो ?” आगे चलकर गाधीजीने कहा “ आप यह पूछ सकते है कि अगर ऐसा है, तो फिर आदमी हमेशाके लिए मौन ही क्यो न ले ले ? उसूलकी दृष्टिसे तो यह सभव है, लेकिन जिन शतोंके मुताबिक मौन विचार पूरी तरह क्रियाकी जगह ले सकते है, उन शतोंको पूरा करना बहुत मुश्किल है। मै खुद अपने विचारो पर इस तरहका पूरा-पूरा काबू पा लेनेका कोई दावा नही कर सकता । मै अपने मनसे बेमतलब और बेकारके खयालोको पूरी तरह दूर नही रख सकता । इस हालतको पाने या इस तक पहुचनेके लिए तो अनन्त धीरज, जागृति और तपश्चर्याकी जरूरत है। “कल जब मैने आपसे यह कहा था कि रामनामकी शक्तिका कोई पार नही है, तब मै किसी आलकारिक भाषामे नही बोल रहा था, बल्कि सचमुच यही कहना भी चाहता था । मगर इस चीजको महसूस करनेके लिए बिलकुल शुद्ध और पवित्र हृदयसे रामनामका निकलना जरूरी है। मै खुद इस हालतको पानेकी कोशिशमे लगा हुआ हू । मेरे दिलमे तो इसकी एक तसवीर खिच गई है, लेकिन मै इसे पूरी तरह अमलमे