भारतवर्ष का इतिहास

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
भारतवर्ष का इतिहास  (1919) 
द्वारा ई॰ मार्सडेन
[  ]
भारतवर्ष का इतिहास



पहिला भाग।


ई. मार्सडेन, बी. ए., एफ. आर. जी. एस., एम. आर ए. एस


और


लाला सीताराम, बी. ए., एफ. ए. यू, एम. आर. ए. एस.


रचित।





मैकमिलन एण्ड कम्पनी लिमिटेड
कलकत्ता, बम्बई, मद्रास, लण्डन


१९१९


कीमत ॥)

[  ] [  ]
भारतवर्ष का इतिहास



पहिला भाग।


ई. मार्सडेन, बी. ए., एफ. आर. जी. एस., एम. आर ए. एस


और


लाला सीताराम, बी. ए., एफ. ए. यू, एम. आर. ए. एस.


रचित।





मैकमिलन एण्ड कम्पनी लिमिटेड
कलकत्ता, बम्बई, मद्रास, लण्डन

१९१९
[  ]









PRINTED BY B. K. DAS AT THE WELLINGTON PRINTING WORKS
TO, HAIADHAR BARDHAN LANE, CALCUTTA.
[  ]
सूचीपत्र।


विषय।
१––भारतवर्ष––उसके पहाड़ और नदियां ... ... ...
२––प्राचीन समय में भारतवर्ष की दशा
(१) पत्थर और धात का समय ... ... ...
(२) भारतवर्ष की पुरानी जातियाँ––कोल ... ...
(३) भारतवर्ष की पुरानी जातियाँ ––द्रविड़ ... ...
(४) जातियाँ जो बाहर से आकर हिन्दुस्थान में बस गईं ...
(५) तूरानी या मंगोल ... ... ...
३––आर्य ... ... ...... ...
४––वेदों का समय ... ...... ...
५––रामायण का समय ... ...... ...
६––श्रीरामचन्द्र जी की कथा ... ......
७––महाभारत का समय ... ...... ...
८––कौरवों और पांडवों की लड़ाई ... ......
९––हिन्दुओं का पुरातत्व
(१) जाति की उत्पत्ति ... ......
(२) प्राचीन हिन्दू राज ... ...... ...
(३) प्राचीन हिन्दू समय की विद्या भौर कला ... ...
१०––महात्मा बुद्ध ... ...... ...
११––बुद्धमत ... ...... ...
१२––जैन ... ... ...... ...
१३––बौद्धमत का समय
(१) यूनानियों का भारतवर्ष में प्रवेश ... ...
(२) भारत के यूनानी राजा ... ......
(३) भारतीय सिथियन ... ......


पृष्ठ।






१०
११
१५
१७
२२
२७
३०

३३
३६
३९
४४
४७
५०

५३
५६
५७

[  ]


विषय।
१४––बौद्ध समय के बड़े बड़े राजा और उनकी रियासतें ... ...
(१) मौर्य वंश ... ... ... ...
(२) अंध्र वंश ... ... ... ...
(३) गुप्त वंश ... ... ... ...
(४) हूण ... ... ... ...
(५) हर्ष या शीलादित्य ... ... ... ...
१५––बौद्ध समय में भारतवर्ष की अवस्था ... ... ...
१६––पुराण ... ... ... ... ...
१७––पौराणिक समय के हिन्दू महात्मा ... ... ...
१८––राजपूत ... ... ... ... ...
१९––मुसलमान ... ... ... ...
२०––महमूद ग़ज़नवी ... ... ... ...
२१––मुहम्मद ग़ोरी ... ... ... ...
२२––पठान बादशाह ... ... ... ...
२३––गुलामों का वंश ... ... ... ...
२४––ख़िलजीवंश ... ... ... ...
२५––तुग़लकवंश ... ... ... ...
२६––तैमूरलंग ... ... ... ...
२७––हिन्दुस्थान की दशा तैमूर के जाने के पीछे
(१) सैयदवंश ... ... ... ...
(२) लोधीवंश ... ... ... ...
२८––दखिन में पठानों को चढ़ाइयाँ ... ... ...
२९––बहमनी और विनयनगर के राज्य ... ... ...
३०––दखिन की मुसलमानी रियासतें ... ... ...
३१––मुग़लवंश ... ... ......


पृष्ठ।
५८
५९
६२
६२
६४
६५
६७
७१
७२
७७
८१
८४
८८
९२
९४
१०१
१०८
१११

११३
११५
११७
११९
१२४
१२७

[  ]


विषय।
३२––बाबर ... ...... ...
३३––हुमायूँ ... ...... ...
३४––सूरवंश ... ...... ...
३५––अकबर ... ...... ...
३६––अकबर (उत्तरार्द्ध) ... ...... ...
३०––जहांगीर ... ...... ...
३८––शाहजहाँ ... ...... ...
३९––औरङ्गजेब ... ...... ...
४०––भारतवासियों और यूरोपवालों में वाणिज्यव्यवहार का आरम्भ होना ...
४१––संयुक्त ईस्ट इंडिया कम्पनी ... ... ...
४२––शिवाजी की बढ़ती ... ... ... ...
४३––मुग़लराज की घटती ... ... ... ...
४४––मरहठों की बढ़ती ... ... ... ...
४५––नादिरशाह ... ... ... ...


पृष्ठ।
१२८
१३६
१४७
१५२
१६१
१७०
१७६
१८१
१८६
१८९
१९३
१९८
२००
२०६

PD-icon.svg यह कार्य भारत में सार्वजनिक डोमेन है क्योंकि यह भारत में निर्मित हुआ है और इसकी कॉपीराइट की अवधि समाप्त हो चुकी है। भारत के कॉपीराइट अधिनियम, 1957 के अनुसार लेखक की मृत्यु के पश्चात् के वर्ष (अर्थात् वर्ष 2020 के अनुसार, 1 जनवरी 1960 से पूर्व के) से गणना करके साठ वर्ष पूर्ण होने पर सभी दस्तावेज सार्वजनिक प्रभावक्षेत्र में आ जाते हैं।

यह कार्य संयुक्त राज्य अमेरिका में भी सार्वजनिक डोमेन में है क्योंकि यह भारत में 1996 में सार्वजनिक प्रभावक्षेत्र में आया था और संयुक्त राज्य अमेरिका में इसका कोई कॉपीराइट पंजीकरण नहीं है (यह भारत के वर्ष 1928 में बर्न समझौते में शामिल होने और 17 यूएससी 104ए की महत्त्वपूर्ण तिथि जनवरी 1, 1996 का संयुक्त प्रभाव है।

Flag of India.svg