शैवसर्वस्व

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
शैवसर्वस्व  (1890) 
द्वारा प्रतापनारायण मिश्र
[  ]
[[चित्र:|450px|page=1]]
[  ]


शैवसर्वस्व ।


अर्थात्


शिवालय, शिवमूर्ति और शिव पूजा को मुख्य

मुख्य बातों का गूढा़र्थ

जिसे शिव भक्तों के मनोरंजन तथा

सर्व साधारण के हितार्थ

प्रेमदास प्रसिद्ध प्रतापनारायण मिश्र ने

लिखा ।


श्रीमन्महाराज कुमार बाबू रामदीन सिंह के अतिरिक्त

इस के छापने का अधिकार किसी को नहीं हैं ।

[[चित्र:|353px|page=2]]

पटना--“खड्गंविलास” प्रेस बांकीपुर ।'

साहब प्रसाद सिंह ने छाप कर प्रकाशित किया ।

१८९०.

[  ]

समर्पण


प्यारे भोलानाथ !

तुम्हारा भोलापन तो मूर्तिपर पांव रख के धंठा कोरने वाले चोर को चाल समर्थक की गति देने इत्यादि में प्रसिद्ध ही था पर हम भी तुम्हें ऐसे ही पागल मिले हैं जो यह जान के भी कि सब कुछ तुम्हारा ही हैं समर्पण किए बिना नहीं मानते तथा किसी काम के न होने पर भी तुम्हारे कहलाने को मरे जाते हैं यदि इतने पर भी न अपनाओ तो क्या बात है ।


आभपूर, श्रावण शुक्ला १४.

श्वीवरीचंद्राब्द ४

तुम्हारा ही

प्रेमदास ।


PD-icon.svg यह कार्य भारत में सार्वजनिक डोमेन है क्योंकि यह भारत में निर्मित हुआ है और इसकी कॉपीराइट की अवधि समाप्त हो चुकी है। भारत के कॉपीराइट अधिनियम, 1957 के अनुसार लेखक की मृत्यु के पश्चात् के वर्ष (अर्थात् वर्ष २०२० के अनुसार, १ जनवरी 1960 से पूर्व के) से गणना करके साठ वर्ष पूर्ण होने पर सभी दस्तावेज सार्वजनिक प्रभावक्षेत्र में आ जाते हैं।

यह कार्य संयुक्त राज्य अमेरिका में भी सार्वजनिक डोमेन में है क्योंकि यह भारत में 1996 में सार्वजनिक प्रभावक्षेत्र में आया था और संयुक्त राज्य अमेरिका में इसका कोई कॉपीराइट पंजीकरण नहीं है (यह भारत के वर्ष 1928 में बर्न समझौते में शामिल होने और 17 यूएससी 104ए की महत्त्वपूर्ण तिथि जनवरी 1, 1996 का संयुक्त प्रभाव है।

Flag of India.svg