Locked

भ्रमरगीत-सार/४-हरि गोकुल की प्रीति चलाई

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
भ्रमरगीत-सार  (1926) 
द्वारा रामचंद्र शुक्ल

[ ८७ ]

हरि गोकुल की प्रीति चलाई।

सुनहु उपँगसुत मोहिं न बिसरत ब्रजबासी सुखदाई॥
यह चित होत जाउँ मैं अबही, यहाँ नहीं मन लागत।
गोप सुग्वाल गाय बन चारत अति दुख पायो त्यागत॥
कहँ माखन चोरी? कह जसुमति 'पूत जेंव' करि प्रेम।
सूर स्याम के बचन सहित[१] सुनि ब्यापत आपन नेम॥४॥

  1. सहित=हित या प्रेम युक्त।