गल्प समुच्चय

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
गल्प समुच्चय  (1931) 
द्वारा प्रेमचंद

[  ]

गल्प-समुच्चय












प्रेमचन्द
[  ]
गल्प-समुच्चय

हिन्दी के

विशिष्ट गल्पकारों की सर्वोत्तम गल्पों का संग्रह




संग्रहकर्त्ता और सम्पादक

भारत-विख्यात उपन्यास-सम्राट

श्रीप्रेमचन्दजी




प्रकाशक


सरस्वती-प्रेस, बनारस सिटी

द्वितीय
सन्
मूल्य
संस्करण
१९३१
२॥)
[  ]

मुद्रक

श्रीप्रवासीलाल वर्मा

सरस्वती-प्रेस

काशी

[  ]आधुनिक गल्प-लेखन-कला हिन्दी में अभी बाल्यावस्था में है; इसलिये इससे पाश्चात्य के प्रौढ़ गल्पों की तुलना करना अन्याय होगा। फिर भी इस थोड़े-से काल में हिन्दी-गल्प-कला ने जो उन्नति की है, उसपर वह गर्व करें, तो अनुचित नहीं। हिन्दी में अभी टालस्टाय, चेकाफ़, परे, डाडे, मोपासाँ का आविर्भाव नहीं हुआ है; पर बिरवा के चिकने पात देखकर कहा जा सकता है, कि यह होनहार है। इस संग्रह में हमने चेष्टा की है, कि हिन्दी के सर्वमान्य गल्पकारों की रचनाओं की बानगी दे दी जाय। हम कहाँ तक सफल हुए हैं, इसका निर्णय पाठक और समालोचक-गण

ही कर सकते हैं। हमें खेद है, कि इच्छा रहते हुए भी हम अन्य लेखकों की रचनाओं के लिये स्थान न निकाल सके; पर इतना हम कह सकते हैं कि हमने जो सामग्री उपस्थित की है वह हिन्दी-गल्प-
[  ]
कला की वर्त्तमान परिस्थिति का परिचय देने के लिये काफ़ी है। इसके साथ ही हमने मनोरंजकता और शिक्षा का भी ध्यान रखा है, हमें विश्वास है, कि पाठक इस दृष्टि से भी इस संग्रह में कोई अभाव न पावेंगे।

गल्प-लेखन-कला की विषद रूप से व्याख्या करना हमारा तात्पर्य नहीं। संक्षिप्त रूप से गल्प एक कविता है, जिसमें जीवन के किसी एक अंग या किसी एक मनोभाव को प्रदर्शित करना ही लेखक का उद्देश्य होता है। उसके चरित्र, उसकी शैली, उसका कथा-विन्यास, सब उसी एक भाव का पुष्टि-करण करते हैं। उपन्यास की भाँति उसमें मानव-जीवन का सम्पूर्ण तथा वृहद् रूप दिखाने का प्रयास नहीं किया जाता, न उपन्यास[१] की भाँति उसमें सभी रसों का सम्मिश्रण होता है। वह रमणीक उद्यान नहीं, जिसमें भाँति-भांति के फूल, बेल-बूटे सजे हुए हैं, वरन् एक गमला है, जिसमें एक ही पौधे का माधुर्य अपने समुन्नत रूप में दृष्टिगोचर होता है।

हम उन लेखक महोदयों के कृतज्ञ हैं, जिन्होंने उदारता-पूर्वक हमें अपनी रचनाओं के उद्धृत करने की अनुमति प्रदान की। हम सम्पादक महानुभावों के भी ऋणी हैं जिनकी बहुमूल्य पत्रिकाओं में से हमने कई गल्पें ली हैं।

-प्रेमचन्द

[  ]
अनुक्रमणिका

पृष्ठांक

१ - पं॰ ज्वालादत्त शर्मा

(१) अथाथ बालिका
२५
(२) स्वामीजी ...

२ - महाशय सुदर्शन

६८[२]
(१) संन्यासी ...
५९
(२) अँधेरी दुनिया

३ - पं॰ चतुरसेन शास्त्री

८५
दुखवा मैं कासे कहूँ मोरी सजनी
[ १० ]

४ - श्रीप्रेमचन्द

१०१
(१) शतरंज के खिलाड़ी
११९
(२) कामना-तरु
१३७
(३) रानी सारन्ध्रा
१६४
(४) आत्माराम

५ - श्रीपदुमलाल पुन्नालाल बख्शी बी॰ ए॰

१७७
कमलावती

६ - पं॰ विश्वम्भरनाथ शर्मा कौशिक

२०८
ताई

७ - श्रीशिवपूजन सहाय

२२६
तूतीमैना

८ - श्रीचंडीप्रसाद बी॰ ए॰ 'हृदयेश'

२४१
मुस्कान

९ - श्रीराजेश्वरप्रशादसिंह

२६८
उमा



PD-icon.svg यह कार्य भारत में सार्वजनिक डोमेन है क्योंकि यह भारत में निर्मित हुआ है और इसकी कॉपीराइट की अवधि समाप्त हो चुकी है। भारत के कॉपीराइट अधिनियम, 1957 के अनुसार लेखक की मृत्यु के पश्चात् के वर्ष (अर्थात् वर्ष 2021 के अनुसार, 1 जनवरी 1961 से पूर्व के) से गणना करके साठ वर्ष पूर्ण होने पर सभी दस्तावेज सार्वजनिक प्रभावक्षेत्र में आ जाते हैं।

यह कार्य संयुक्त राज्य अमेरिका में भी सार्वजनिक डोमेन में है क्योंकि यह भारत में 1996 में सार्वजनिक प्रभावक्षेत्र में आया था और संयुक्त राज्य अमेरिका में इसका कोई कॉपीराइट पंजीकरण नहीं है (यह भारत के वर्ष 1928 में बर्न समझौते में शामिल होने और 17 यूएससी 104ए की महत्त्वपूर्ण तिथि जनवरी 1, 1996 का संयुक्त प्रभाव है।

Flag of India.svg
  1. यहाँ टंकण की भूल है। उपन्यास की जगह महाकाव्य का प्रयोग होना चाहिए था।
  2. यहाँ टंकण की भूल है। ६८ की जगह ३८ होना चाहिए।