सदस्य:अनिरुद्ध कुमार/प्रयोगस्थल

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search


Accueil scribe invert.png
हिन्दी विकिस्रोत पर आपका स्वागत है।
एक मुक्त पुस्तकालय जिसका आप प्रसार कर सकते हैं।
हिंदी में कुल २,१८९ पाठ हैं।


अगस्त का निर्वाचित पाठ

CURRENT COLLABORATIONS

The current Community collaboration is proofreading the text of Leaves of Grass (1860)

Recent collaborations: The Sikh Religion, Eminent Women Series, Edward VII of the United Kingdom, Henry David Thoreau, WikiProject NARA

Leaves of Grass (1860) p4.png
Featured article star - check.svg The current Proofread of the Month is The Hittites  (1890) by Archibald Henry Sayce.

Recent collaborations: Chicago Poems, Felix Holt, the Radical, A History of Wood-Engraving, William Blake in his relation to Dante Gabriel Rossetti, Book of Record of the Time Capsule of Cupaloy, Unlawful Marriage, A Treatise on Medical Astrology, Evisceration, Fur and the Fur Trade, The Art of Modeling Flowers in Wax, On the Application of Sewage in Agriculture, Description of the Abattoirs of Paris, A Short Account of the Botany of Poole, A Contribution to the Pathology of Phlegmasia Dolens, The Real Cause of the High Price of Gold Bullion

साँचा:Sisterprojects


२०२० की साँचा:CURRENTDATENAME की साँचा:CURRENTDATE की अगस्त की सोम १० अगस्त २०२० २०२० अगस्त १० साँचा:TODAY+1 साँचा:NEXTDAY

आज का पाठ

Download this featured text as an EPUB file. Download this featured text as a RTF file. Download this featured text as a PDF. Download this featured text as a MOBI file. Grab a download!

Ganesha in Rakhi (2).jpg

रक्षा-बंधन विश्वंभरनाथ शर्मा 'कौशिक' द्वारा रचित कहानी है जो १९५९ ई में आगरा के विनोद पुस्तक मन्दिर द्वारा प्रकाशित रक्षा बंधन कहानी संग्रह में संग्रहित है।


रक्षा बंधन
द्वारा विश्वंभरनाथ शर्मा 'कौशिक'

[ १६७ ]



रक्षा-बंधन

(१)

'माँ, मैं भी राखी बाँधूँगी।'

श्रावण की धूम-धाम है। नगरवासी स्त्री-पुरुष बड़े आनन्द तथा उत्साह से श्रावणी का उत्सव मना रहे हैं। बहनें भाइयों के और ब्राह्मण अपने यजमानों के राखियाँ बाँध-बाँध कर चाँदी कर रहे हैं। ऐसे ही समय एक छोटे से घर में दस वर्ष की बालिका ने अपनी माता से कहा—माँ मैं भी राखी बाँधूँगी।

उत्तर में माता ने एक ठन्डी साँस भरी और कहा—किसके बाँधेगी बेटी—आज तेरा भाई होता, तो····।

माता आगे कुछ न कह सकी। उसका गला रुँध गया और नेत्र अश्रुपूर्ण हो गए।

अबोध बालिका ने अठलाकर कहा—तो क्या भइया के ही राखी बाँधी जाती है और किसी के नहीं? भइया नहीं है तो अम्मा, मैं तुम्हारे ही राखी बाँधूँगी।

इस दुःख के समय भी पुत्री की बात सुनकर माता मुसकराने लगी और बोली—अरी तू इतनी बड़ी हो गई—भला कहीं मां के भी राखी बाँधी जाती है।

(पूरा पढ़ें)