मुखपृष्ठ

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
Accueil scribe invert.png
हिन्दी विकिस्रोत पर आपका स्वागत है।
एक मुक्त पुस्तकालय जिसका आप प्रसार कर सकते हैं।
हिंदी में कुल ३,७५३ पाठ हैं।

जून की निर्वाचित पुस्तक
निर्वाचित पुस्तक

सप्ताह की पुस्तक
सप्ताह की पुस्तक

Download this featured text as an EPUB file. Download this featured text as a RTF file. Download this featured text as a PDF. Download this featured text as a MOBI file. Grab a download!

पाँच फूल.djvu

पाँच फूल १९२९ में सरस्वती-प्रेस द्वारा प्रकाशित प्रेमचंद के पाँच कहानियों का संग्रह है। ये पाँच कहानियाँ हैं - कप्तान-साहब, स्तीफ़ा, जिहाद, ⁠मंत्र और फ़ातिहा।


"जगतसिंह को स्कूल जाना कुनैन खाने या मछली का तेल पीने से कम अप्रिय न था। वह सैलानी, आवारा, घुमक्कड़ युवक था। कभी अमरूद के बाग़ो की ओर निकल जाता और अमरूदों के साथ माली की गालियाँ बड़े शौक़ से खाता। कभी दरिया की सैर करता और मल्लाहों की डोंगियों में बैठकर उस पार के देहातों में निकल जाता। गालियाँ खाने में उसे मज़ा आता था। गालियाँ खाने का कोई अवसर वह हाथ से न जाने देता। सवार के घोड़े के पीछे ताली बजाना, एक्कों को पीछे से पकड़कर अपनी ओर खींचना, बुड्ढों की चाल की नक़ल करना, उसके मनोरञ्जन के विषय थे। आलसी काम तो नहीं करता ; पर दुर्व्यसनों का दास होता है, और दुर्व्यसन धन के बिना पूरे नहीं होते। जगतसिंह को जब अवसर मिलता घर से रुपये उड़ा लेजाता।..."(पूरा पढ़ें)


पिछले सप्ताह की पुस्तक देखें, अगले सप्ताह की पुस्तक देखें, सभी सप्ताह की पुस्तकें देखें और सुझाएं


पूर्ण पुस्तकें
पूर्ण पुस्तकें

इन पुस्तकों को विकिस्रोत पर लाने का कार्य पूरा हो चुका है:

  1. हिंदी साहित्य का इतिहास - रामचंद्र शुक्ल द्वारा रचित हिंदी साहित्य का पहला सुव्यवस्थित इतिहास।
  2. स्वदेश - रवीन्द्रनाथ टैगोर के चुने हुए निबन्धों का हिन्दी अनुवाद है।
  3. स्त्रियों की पराधीनता जॉन स्टुअर्ट मिल की कृति "THE SUBJECTION OF WOMEN" का हिंदी अनुवाद है।
  4. हिन्द स्वराज - गाँधी द्वारा लिखित पहली सैद्धांतिक पुस्तक
  5. हिन्दी भाषा की उत्पत्ति - महावीर प्रसाद द्विवेदी की भाषा संबंधी पहली पुस्तक

सभी पूर्ण पुस्तकों की सूची देखें।


विज्ञान
विज्ञान और समाज विज्ञान
समाज विज्ञान

विकिस्रोत पर उपलब्ध विज्ञान और समाज विज्ञान की पुस्तकें:
  • इतिहास = ३४
  • दर्शनशास्त्र = २१
  • राजनीति विज्ञान =
  • भूगोल =
  • अर्थशास्त्र =
  • पर्यावरण =
  • विज्ञान =
विकिस्रोत पर उपलब्ध सभी विषयों के लिए देखें विषय श्रेणी

रचनाकार
रचनाकार

बंकिमचन्द्र चट्टोपाध्याय

बंकिमचन्द्र चट्टोपाध्याय (२७ जून १८३८ - ८ अप्रैल १८९४) बांग्ला के प्रख्यात कथाकार, कवि और पत्रकार थे। विकिस्रोत पर उपलब्ध उनकी रचनाएँ:

विकिस्रोत पर उपलब्ध सभी लेखकों के लिए देखें- समस्त रचनाकार अकारादि क्रम से।


आज का पाठ

Download this featured text as an EPUB file. Download this featured text as a RTF file. Download this featured text as a PDF. Download this featured text as a MOBI file. Grab a download!

परिशिष्टः पारदर्शिता कब उपयोगी होती है? कार्ल मालामुद द्वारा रचित पुस्तक कोड स्वराज का एक अध्याय है जिसका प्रकाशन 2018 ई॰ में पब्लिक.रिसोर्स.ओआरजी इनकोरपोरेटेड "कैलिफोर्निया" द्वारा किया गया था।

""पारदर्शिता" एक अनिश्चित शब्द है, यह "सुधार (रिफौर्म)" शब्द जैसा होता है, जो सुनने में तो अच्छा लगता है लेकिन वास्तव में उसका जुड़ाव उस अनियमित राजनीतिक बात से होता है जिसे कोई बढ़ावा देना चाहता है। लेकिन इस विषय पर बात करना मूर्खतापूर्ण है कि क्या "सुधार" शब्द उपयोगी है (यह सुधार पर निर्भर करता है), आमतौर पर पारदर्शिता पर बात करके हम किसी खास निष्कर्ष पर नहीं पहुंच पाएंगे।..."(पूरा पढ़ें)

सभी आज का पाठ देखें, आज का पाठ सुझाएं और नियम देखें


साहित्य
कला और
संगीत

विकिस्रोत पर उपलब्ध कला और साहित्य की पुस्तकें:
विकिस्रोत पर उपलब्ध सभी विषयों के लिए देखें विषय श्रेणी


आंकड़े
आंकड़े

विकिमीडिया संस्थान

विकिस्रोत विकिमीडिया संस्थान, एक गैर-लाभान्विन्त संस्थान द्वारा संचालित है, जिसे अन्य मुक्त-सामग्री परियोजना निम्न हैं:
Commons-logo.svg Wikibooks-logo.svg Wikidata-logo.svg Wikinews-logo.svg Wikipedia-logo.svg Wikiquote-logo.svg Wikispecies-logo.svg Wikiversity-logo.svg Wikivoyage-Logo-v3-icon.svg Wiktionary-logo.svg Wikimedia Community Logo.svg
कॉमन्स विकिपुस्तक विकिडेटा विकिसमाचार विकिपीडिया विकिसूक्ति विकिप्रजाति विकिविश्वविद्यालय विकियात्रा विक्षनरी मेटा-विकि
एक ऐसे विश्व की कल्पना करें, जिसमें हर व्यक्ति ज्ञान को बिना किसी शुल्क के किसी से भी साझा कर सकता है। यह हमारा वादा है। इसमें हमें आपकी सहायता चाहिए: आप हमारे परियोजना में योगदान दे सकते हैं या दान भी कर सकते हैं। यह हमारे जालस्थल के रख रखाव आदि के कार्य आता है।