मुखपृष्ठ

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
Accueil scribe invert.png
हिन्दी विकिस्रोत पर आपका स्वागत है।
एक मुक्त पुस्तकालय जिसका आप प्रसार कर सकते हैं।
हिंदी में कुल ३,१९९ पाठ हैं।

मार्च की निर्वाचित पुस्तक
निर्वाचित पुस्तक

सप्ताह की पुस्तक
सप्ताह की पुस्तक

Download this featured text as an EPUB file. Download this featured text as a RTF file. Download this featured text as a PDF. Download this featured text as a MOBI file. Grab a download!

दो बहनें रवीन्द्रनाथ ठाकुर द्वारा रचित कहानी-संग्रह है जिसका प्रकाशन कलकत्ता में विश्वभारती ग्रन्थालय द्वारा सन् १९५२ ई॰ में किया गया था।


"स्त्रियाँ दो जाति की होती हैं, ऐसा मैंने किसी-किसी पंडित से सुना है। एक जाति प्रधानतया माँ होती है, दूसरी प्रिया। ऋतुओं के साथ यदि तुलना की जाय तो माँ होगी वर्षाऋतु यह जल देती है, फल देती है, ताप शमन करती है, ऊर्ध्वलोक से अपने आपको विगलित कर देती है, शुष्कता को दूर करती है, अभावों को भर देती है। और प्रिया है वसन्तऋतु। गभीर है उसका रहस्य, मधुर है उसका मायामंत्र। चञ्चलता उसकी रक्त में तरङ्ग लहरा देती है और चित्त के उस मणिकोष्ठ में पहुँचती है जहाँ सोने की वीणा में एक निभृत तार चुपचाप, झंकार की प्रतीक्षा में, पड़ा हुआ है; झंकार-जिससे समस्त देह और मन में अनिर्वचनीय की वाणी झंकृत हो उठती है।
शशांक की स्त्री शर्मिला 'माँ' जाति की है।..."(पूरा पढ़ें)

सभी सप्ताह की पुस्तकें देखें, सप्ताह की पुस्तक सुझाएं


पूर्ण पुस्तकें
पूर्ण पुस्तकें

इन पुस्तकों को विकिस्रोत पर लाने का कार्य पूरा हो चुका है:

  1. हिन्दी भाषा की उत्पत्ति - महावीर प्रसाद द्विवेदी की भाषा संबंधी पहली पुस्तक
  2. हीराबाई - किशोरीलाल गोस्वामी द्वारा रचित उपन्यास
  3. प्रताप पीयूष - प्रतापनारायण मिश्र के लेखों तथा कविताओं का संग्रह।
  4. दुर्गेशनन्दिनी प्रथम भाग - बंकिमचंद्र चट्टोपाध्याय द्वारा लिखित बांग्ला उपन्यास
  5. कोड स्वराज - सैम पित्रोदा और कार्ल मालामुद द्वारा लिखित नागरिक प्रतिरोध का विवरण
  6. हिन्द स्वराज - गाँधी द्वारा लिखित पहली सैद्धांतिक पुस्तक
  7. गोदान - प्रेमचंद लिखित हिंदी उपन्यास

सभी पूर्ण पुस्तकों की सूची देखें।


विज्ञान
विज्ञान और समाज विज्ञान
समाज विज्ञान

विकिस्रोत पर उपलब्ध विज्ञान और समाज विज्ञान की पुस्तकें:
  • विज्ञान =
  • पर्यावरण =
  • इतिहास = ३३
  • भूगोल =
  • राजनीति विज्ञान =
  • अर्थशास्त्र =
  • दर्शनशास्त्र = २०
विकिस्रोत पर उपलब्ध सभी विषयों के लिए देखें विषय श्रेणी

रचनाकार
रचनाकार

अयोध्या सिंह उपाध्याय 'हरिऔध'

अयोध्यासिंह उपाध्याय 'हरिऔध' (१५ अप्रैल, १८६५ - १६ मार्च, १९४७) हिन्दी के कवि, निबंधकार तथा संपादक थे। विकिस्रोत पर उपलब्ध उनकी रचनाएँ:


विकिस्रोत पर उपलब्ध सभी लेखकों के लिए देखें- समस्त रचनाकार अकारादि क्रम से।


आज का पाठ

Download this featured text as an EPUB file. Download this featured text as a RTF file. Download this featured text as a PDF. Download this featured text as a MOBI file. Grab a download!

एक प्रसिद्ध गल्पकार के विचार प्रेमचंद द्वारा रचित साहित्य का उद्देश्य का एक अंश है जिसका प्रकाशन जुलाई १९५४ ई॰ में इलाहाबाद के हंस प्रकाशन द्वारा किया गया था।

"मि॰ जेम्स ओपेनहाइम अँग्रेज़ी के अच्छे कहानी-लेखक हैं। हाल में एक अँग्रेजी पत्रिका के सम्पादक ने कहानी-कला पर मि॰ ओपेनहाइम से कुछ बातचीत की थी। उनमें जो प्रश्नोत्तर हुआ, उसका सारांश हम पाठकों के मनोरंजन के लिए यहाँ देते हैं। पत्रिकाओं में जितनी कहानियाँ आती हैं, उतने और किसी विषय के लेख नहीं आते। यहाँ तक कि उन सबों को पढ़ना मुश्किल हो जाता है। अधिकांश तो युवकों की लिखी होती है, जिनके कथानक, भाव, भाषा, शैली में कोई मौलिकता नहीं होती और ऐसा प्रतीत होता है कि कहानी लिखने के पहले उन्होने कहानी कला के मूल तत्वों को समझने की चेष्टा नहीं की।..."(पूरा पढ़ें)


सभी आज का पाठ देखें, आज का पाठ सुझाएं और नियम देखें


संगीत
कला और साहित्य
साहित्य

विकिस्रोत पर उपलब्ध कला और साहित्य की पुस्तकें:
विकिस्रोत पर उपलब्ध सभी विषयों के लिए देखें विषय श्रेणी


आंकड़े
आंकड़े

विकिमीडिया संस्थान

विकिस्रोत विकिमीडिया संस्थान, एक गैर-लाभान्विन्त संस्थान द्वारा संचालित है, जिसे अन्य मुक्त-सामग्री परियोजना निम्न हैं:
Commons-logo.svg Wikibooks-logo.svg Wikidata-logo.svg Wikinews-logo.svg Wikipedia-logo-v2.svg Wikiquote-logo.svg Wikispecies-logo.svg Wikiversity-logo.svg Wikivoyage-Logo-v3-icon.svg Wiktionary-logo.svg Wikimedia Community Logo.svg
कॉमन्स विकिपुस्तक विकिडेटा विकिसमाचार विकिपीडिया विकिसूक्ति विकिप्रजाति विकिविश्वविद्यालय विकियात्रा विक्षनरी मेटा-विकि
एक ऐसे विश्व की कल्पना करें, जिसमें हर व्यक्ति ज्ञान को बिना किसी शुल्क के किसी से भी साझा कर सकता है। यह हमारा वादा है। इसमें हमें आपकी सहायता चाहिए: आप हमारे परियोजना में योगदान दे सकते हैं या दान भी कर सकते हैं। यह हमारे जालस्थल के रख रखाव आदि के कार्य आता है।